Monday, November 19, 2018
Follow us on
Haryana

HARYANA-माइनिंग जारी-10 टिपर इम्पाउंड, माइनिंग माफिया ने दी धमकी अफसर टिपर रोके तो ऊपर चढ़ा दो, बाकी देख लेंगे

April 23, 2018 06:04 AM

COURSTEY DAINIK BHASKAR APRIL 23

10 टिपर इम्पाउंड, माइनिंग माफिया ने दी धमकी अफसर टिपर रोके तो ऊपर चढ़ा दो, बाकी देख लेंगे

माइनिंग जारी

अमरावती चौकी में इम्पाउंड कर खड़े किए गए है टिपर।
10 टिपरों में से सिर्फ एक का ड्राइवर गिरफ्तार
ऐसे होती है अवैध कमाई
एक टिपर के अंदर 700 फुट रेत आता है। इसे 20 हजार रुपए तक में बेचा जाता है।
एक टिपर में 600 से 700 फीट ग्रेवल आता है। 12 हजार रुपए तक में बेचा जाता है।
एक टिपर दिन में 6 से 8 चक्कर लगाता है। दिन की कमाई एक लाख से ज्यादा की होती है।
पिंजौर-कालका एरिया में माइनिंग डिपार्टमेंट की रेड, चंडीमंदिर के पास टिपर रोका तो ड्राइवर के फोन करने पर एक शख्स आया और जान से मारने की धमकी देकर निकल गया...
अमित शर्मा | पंचकूला amit.sharma@dbcorp.in
पिंजौर-कालका एरिया में माइनिंग माफिया का दबदबा है। यहां दिन रात अवैध माइनिंग होती है। टिपरों में ग्रेवल, रेत-बजरी को बेचा जा रहा है। रविवार को माइनिंग डिपार्टमेंट की टीम ने बुर्जकोटिया के पास बिना बिल के टिपर को माइनिंग करते हुए पकड़ा है। वहीं, ग्रेवल से भरे टिपर एचआर37सी-8478 को चंडीमंदिर लाइट प्वॉइंट के पास से पकड़ा है। जब इस टिपर को पकड़ा तो ड्राइवर ने फोन किया, जिसपर एक शख्स आया। इस शख्स ने माइनिंग टीम को जान से मारने की धमकी और ड्राइवर को कहा कि आगे से कोई रोके तो टिपर ऊपर चढ़ा देना। इतना कहकर यह शख्स चला गया। टीम ने इस टिपर को जब्त कर इसके ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है। माइनिंग अफसर राजीव धीमान ने जान से मारने की धमकी देने की शिकायत पुलिस को दी है। इसके अलावा 9 और टिपर पिंजौर एरिया में पकड़े हैं। सभी 10 टिपरों को इंम्पाउंड कर अमरावती पुलिस चौकी ले जाया गया है। 9 टिपरों में ग्रेवल भरा हुआ था और एक में रेत भरी हुई थी। किसी भी टिपर का बिल और बिल्टी नहीं था। सिर्फ एक के ड्राइवर को गिरफ्तार कर बाकी 9 टिपरों के ड्राइवर्स को गिरफ्तार नहीं किया गया है। एंटी करप्शन सोसायटी के जिला प्रधान अनिल कुमार का कहना है कि पंचकूला में अवैध माईनिंग का कारोबार हो रहा है। कई शिकायतें दी गई। अब जाकर कार्रवाई हुई है। टीम रोजाना ऐसे काम करना चाहिए।
अप्रैल में 15 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज: अवैध माइनिंग के मामले में लोगों की शिकायत पर कार्रवाई नहीं हो रही थी। इसके बाद भास्कर ने इस बारे में लगातार खबरें छापी तो माइनिंग डिपार्टमेंट और पुलिस ने एक्शन लिया। अप्रैल में ही 15 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज किए जा चुके हैं। 24 लोगों को नोटिस हो चुके हैं। जिन लोगों को नोटिस दिए हैं वे अपनी जमीन पर माइनिंग करवा रहे हैं।
यहां हो रही है अवैध माइनिंग
बरवाला, रिहौड़, बतौड़, नटवाल के साथ साथ सेक्टर-28 के साथ लगते घग्घर एरिया में माइनिंग होती है।
पिंजौर कालका एरिया में सभी नदियों के साथ साथ रास्तों को बनाया गया है, वहीं पहाड़ को खोदकर माइनिंग की जा रही है। इसमें बुर्जकोटिया का एरिया भी शामिल हैं।
पंकूला में नदियों के एरिया के साथ ही माइनिंग को किया जा रहा है। इसके अलावा क्रैशर जोन का फायदा उठाया जा रहा है। जिसके चलते यहां ग्रेवर गिराने या रेत निकालने के बहाने ये सब किया जा रहा है।
हमारी टीम जब भी माईनिंग को पकड़ने के लिए जाती है तो हमें खतरा रहता है कि ये कहीं ये हमला तक न कर दें। रविवार को ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें हमारी टीम को जान से मारने की धमकी दी गई है। इस बारे में आला अधिकारियों से एक लेटर पंचकूला पुलिस को भिजवाया जा रहा है। -राजीव धीमान, माइनिंग अफसर
टिपर किसके अभी पता नहीं लगा...जिन टिपरों को जब्त किया और माइनिंग अफसर को धमकी देने वाले के बारे में पुलिस पता नहीं लगा पाई है। माइनिंग डिपार्टमेंट और पुलिस की ढीली कार्रवाई के चलते ही अवैध माइनिंग जारी है। क्योंकि सिर्फ कारिंदों को ही पकड़ा जाता है और जुर्माना कर इन्हें छोड़ दिया जाता है। माइनिंग माफिया तक कोई पहुंच नहीं पाता।
ये टिपर किए जब्त
1. एचआर 68बी-7750
2. एचआर68बी-8094
3. एचआर68ए-6103
4. सीएच22टी-1317
5. एचआर37सी-7769
6. एचआर68बी-7846
7. एचआर68बी-0524
8. एचआर68बी-2194
9. एचआर37सी-8478
10. एचआर68बी-7765
माइनिंग डिपार्टमेंट के साथ साथ और अकेले भी माइनिंग को लेकर गश्त कर रहे हैं। यहां करीब 9 टिपरों को माइनिंग करते हुए पकड़ा गया है।
-सुखबीर सिंह, एसएचओ, पिंजौर थाना

10 टिपर इम्पाउंड, माइनिंग माफिया ने दी धमकी अफसर टिपर रोके तो ऊपर चढ़ा दो, बाकी देख लेंगे
10 टिपर इम्पाउंड, माइनिंग माफिया ने दी धमकी अफसर टिपर रोके तो ऊपर चढ़ा दो, बाकी देख लेंगे

माइनिंग जारी

 

अमरावती चौकी में इम्पाउंड कर खड़े किए गए है टिपर।
10 टिपरों में से सिर्फ एक का ड्राइवर गिरफ्तार
ऐसे होती है अवैध कमाई
एक टिपर के अंदर 700 फुट रेत आता है। इसे 20 हजार रुपए तक में बेचा जाता है।
एक टिपर में 600 से 700 फीट ग्रेवल आता है। 12 हजार रुपए तक में बेचा जाता है।
एक टिपर दिन में 6 से 8 चक्कर लगाता है। दिन की कमाई एक लाख से ज्यादा की होती है।
पिंजौर-कालका एरिया में माइनिंग डिपार्टमेंट की रेड, चंडीमंदिर के पास टिपर रोका तो ड्राइवर के फोन करने पर एक शख्स आया और जान से मारने की धमकी देकर निकल गया...
अमित शर्मा | पंचकूला amit.sharma@dbcorp.in
पिंजौर-कालका एरिया में माइनिंग माफिया का दबदबा है। यहां दिन रात अवैध माइनिंग होती है। टिपरों में ग्रेवल, रेत-बजरी को बेचा जा रहा है। रविवार को माइनिंग डिपार्टमेंट की टीम ने बुर्जकोटिया के पास बिना बिल के टिपर को माइनिंग करते हुए पकड़ा है। वहीं, ग्रेवल से भरे टिपर एचआर37सी-8478 को चंडीमंदिर लाइट प्वॉइंट के पास से पकड़ा है। जब इस टिपर को पकड़ा तो ड्राइवर ने फोन किया, जिसपर एक शख्स आया। इस शख्स ने माइनिंग टीम को जान से मारने की धमकी और ड्राइवर को कहा कि आगे से कोई रोके तो टिपर ऊपर चढ़ा देना। इतना कहकर यह शख्स चला गया। टीम ने इस टिपर को जब्त कर इसके ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है। माइनिंग अफसर राजीव धीमान ने जान से मारने की धमकी देने की शिकायत पुलिस को दी है। इसके अलावा 9 और टिपर पिंजौर एरिया में पकड़े हैं। सभी 10 टिपरों को इंम्पाउंड कर अमरावती पुलिस चौकी ले जाया गया है। 9 टिपरों में ग्रेवल भरा हुआ था और एक में रेत भरी हुई थी। किसी भी टिपर का बिल और बिल्टी नहीं था। सिर्फ एक के ड्राइवर को गिरफ्तार कर बाकी 9 टिपरों के ड्राइवर्स को गिरफ्तार नहीं किया गया है। एंटी करप्शन सोसायटी के जिला प्रधान अनिल कुमार का कहना है कि पंचकूला में अवैध माईनिंग का कारोबार हो रहा है। कई शिकायतें दी गई। अब जाकर कार्रवाई हुई है। टीम रोजाना ऐसे काम करना चाहिए।
अप्रैल में 15 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज: अवैध माइनिंग के मामले में लोगों की शिकायत पर कार्रवाई नहीं हो रही थी। इसके बाद भास्कर ने इस बारे में लगातार खबरें छापी तो माइनिंग डिपार्टमेंट और पुलिस ने एक्शन लिया। अप्रैल में ही 15 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज किए जा चुके हैं। 24 लोगों को नोटिस हो चुके हैं। जिन लोगों को नोटिस दिए हैं वे अपनी जमीन पर माइनिंग करवा रहे हैं।
यहां हो रही है अवैध माइनिंग
बरवाला, रिहौड़, बतौड़, नटवाल के साथ साथ सेक्टर-28 के साथ लगते घग्घर एरिया में माइनिंग होती है।
पिंजौर कालका एरिया में सभी नदियों के साथ साथ रास्तों को बनाया गया है, वहीं पहाड़ को खोदकर माइनिंग की जा रही है। इसमें बुर्जकोटिया का एरिया भी शामिल हैं।
पंकूला में नदियों के एरिया के साथ ही माइनिंग को किया जा रहा है। इसके अलावा क्रैशर जोन का फायदा उठाया जा रहा है। जिसके चलते यहां ग्रेवर गिराने या रेत निकालने के बहाने ये सब किया जा रहा है।
हमारी टीम जब भी माईनिंग को पकड़ने के लिए जाती है तो हमें खतरा रहता है कि ये कहीं ये हमला तक न कर दें। रविवार को ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें हमारी टीम को जान से मारने की धमकी दी गई है। इस बारे में आला अधिकारियों से एक लेटर पंचकूला पुलिस को भिजवाया जा रहा है। -राजीव धीमान, माइनिंग अफसर
टिपर किसके अभी पता नहीं लगा...जिन टिपरों को जब्त किया और माइनिंग अफसर को धमकी देने वाले के बारे में पुलिस पता नहीं लगा पाई है। माइनिंग डिपार्टमेंट और पुलिस की ढीली कार्रवाई के चलते ही अवैध माइनिंग जारी है। क्योंकि सिर्फ कारिंदों को ही पकड़ा जाता है और जुर्माना कर इन्हें छोड़ दिया जाता है। माइनिंग माफिया तक कोई पहुंच नहीं पाता।
ये टिपर किए जब्त
1. एचआर 68बी-7750
2. एचआर68बी-8094
3. एचआर68ए-6103
4. सीएच22टी-1317
5. एचआर37सी-7769
6. एचआर68बी-7846
7. एचआर68बी-0524
8. एचआर68बी-2194
9. एचआर37सी-8478
10. एचआर68बी-7765
माइनिंग डिपार्टमेंट के साथ साथ और अकेले भी माइनिंग को लेकर गश्त कर रहे हैं। यहां करीब 9 टिपरों को माइनिंग करते हुए पकड़ा गया है।
-सुखबीर सिंह, एसएचओ, पिंजौर थाना

Have something to say? Post your comment