Monday, July 23, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के आह्वान पर चक्काजाम का अंबाला ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के सभी दल मेंबर में एकत्र होकर आज बंद का समर्थन कियाराजद सांसद जेपी यादव बोले- 2019 का चुनाव राहुल गांधी बनाम नरेंद्र मोदी होगा गोरखपुर: पटरी से उतरी मालगाड़ी, चौरी चौरा रेलवे स्‍टेशन के करीब हुआ हादसा गौरी लंकेश मर्डर केस के 2 आरोपी बेंगलुरु लाए गए, कल हुई थी गिरफ्तारी अलवर लिंचिंग केस में घटनास्‍थल पर पहुंची राजस्‍थान पुलिस 31 जुलाई तक बारिश नहीं होने की स्थिति में सूखा राज्‍य घोषित होगा बिहार सरकार द्वारा चालू वित्त वर्ष अर्थात 2018-19 के प्रोपर्टी टैक्स पर 10 प्रतिशत की छूट दी जा रही है:यशपाल यादवजल्द ही गुरुग्राम के सैक्टर-9ए व आस पास के क्षेत्रों के लोगों की सुविधा के लिए 50 एमएलडी क्षमता के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट(एसटीपी) को शुरू किया जाएगा:राव नरबीर सिंह
Himachal

HIMCHAL -घिनौनी राजनीति का ये सारा खेल इस तस्वीर के लिए...सीएम के इंतजार में 3 घंटे नहीं दिए बच्चों के शव; जो रात को सौंपे थे, वे भी वापस मंगाए

April 11, 2018 05:50 AM

COURSTEY DAINIK BHASKAR  APRIL 11

सीएम के इंतजार में 3 घंटे नहीं दिए बच्चों के शव; जो रात को सौंपे थे, वे भी वापस मंगाए
सीएम के इंतजार में 3 घंटे नहीं दिए बच्चों के शव; जो रात को सौंपे थे, वे भी वापस मंगाए

बच्चों की लाशों पर श्रद्धांजलि की सियासत

घिनौनी राजनीति का ये सारा खेल इस तस्वीर के लिए...

7:36 बजे हो चुका था पोस्टमार्टम, 10:24 तक रोके रखा सीएम के लिए

 

सुबह 10:24 बजे सीएम जयराम ठाकुर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्‌डा व अन्य नेताओं ने हरेक मृत बच्चों को श्रद्धांजलि देनी शुरू की, जिसके लिए शव परिवारों को थोड़ी देर पहले सौंप गए। उसके बाद उन्हें गाड़ियों में रोककर रखा गया। सुबह जब आिखरी पोस्टमार्टम हुआ तो कई परिवार बच्चों के शव मांगने लगे। लेकिन, स्थानीय विधायक राकेश पठानिया और उनके लोगों ने बच्चों के परिजनों को यहां रोके रखा। दूसरी तस्वीर में दिख रहे इस बच्चे की बहन हादसे में चल बसी। सीएम और केंद्रीय मंत्री नड्‌डा के पहुंचने तक ये मां-बेटे एक दूसरे को हौसला देते रहे। आंसू पोछते रहे। सभी परिवारों को यहां पौने तीन घंटे इंतजार कराया गया।
गौरव भाटिया | नूरपुर (कांगड़ा)
सोमवार को स्कूल बस हादसे में मारे गए 23 बच्चों के परिवारों को मंगलवार को करीब तीन घंटे तक शवों के लिए अस्पताल के बाहर बैठाकर रखा गया। बिलखते परिवारों को बताया गया कि सीएम जयराम ठाकुर के आने के बाद ही शव सौंपे जाएंगे। कुछ परिवार, जिन्हें रात को शव सौंपे गए थे, उनसे शव वापस मंगाए गए। यही नहीं, जिन तीन बच्चों की मौत पठानकोट के अस्पताल में हुई, उनके शव भी नूरपुर के अस्पताल पहुंचाए गए।
बच्चों को श्रद्धांजलि देने के नाम पर यहां मंच बनाया गया। पंडाल-माइक-स्पीकर आिद सारी व्यवस्था कर दी गई। लोगों को ये कहकर रोका गया कि सीएम फौरी राहत के चेक बांटेंगे। 23 बच्चों समेत 27 मौतों के बाद प्रशासन कितना लापरवाह रहा, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि रात को सवा 3 बजे जब भास्कर टीम सिविल हॉस्पिटल में पहुंची तो सिर्फ दो नर्सें उन चार बच्चों की देखभाल में जुटी थी जो हादसे में जिंदा बचे थे। लेकिन, सुबह दर्जनों सरकारी गाड़ियाें में भरे लोग सीएम के आने की तैयारियों में जुट गए। सुबह 7:36 बजे सभी बच्चों, टीचर्स और ड्राइवर का पोस्टमार्टम हो गया था। केंद्रीय मंत्री जेपी नड्‌डा सुबह 8:40 बजे गग्गल एयरपोर्ट पहुंचे। उन्हें वहां सीएम जयराम ठाकुर का इंतजार करना पड़ा। ठाकुर 9:40 बजे पहुंचे और 10:24 बजे दोनों नूरपुर हॉस्पिटल पहुंचे। ठाकुर मंडी के सर्किट हाउस से चले थे। वहां 8:03 बजे उन्होंने लोगों से मुलाकातें शुरू कीं। 9:15 बजे क्रिकेटर ऋषि धवन से भी मिले। 8:47 बजे सीएम पड्‌डल के लिए निकले। वहां हेलिकॉप्टर इंतजार कर रहा था। इधर, नूरपुर में सुबह 6 बजे से ही बच्चों के परिवार अस्पताल के बाहर जुट गए थे। मौसम खराब था और हल्की बूंदाबांदी भी हो रही थी। इसलिए परिजन चाहते थे कि शव जल्दी उन्हें सौंपे जाए। लेकिन, अस्पताल में प्रशासन का कोई अफसर नहीं था। पोस्टमार्टम के दौरान एक-एक परिवार को मॉर्चरी में ले जाया गया, ताकि वे शिनाख्त कर सकें। तभी डीसी संदीप कुमार कुछ अफसरों के साथ पहुंचे। वे निर्देश दे रहे थे कि सीएम के आने पर शवों को कैसे निकाला जाना है। कौन क्या जिम्मेदारी देखेगा वगैरह-वगैरह। बच्चों की लाशों पर राजनीति के सवाल पर सरकार की तरफ से कोई बयान नहीं आया। लेकिन, सीएम ठाकुर ने इतना जरूर कहा कि हादसे के कारणों की जांच चल रही है। दो दिन में एक बड़ी मीटिंग होगी, जिसमें स्कूल बसों की सुरक्षा को लेकर चर्चा करेंगे।
-संबंधित खबरें पेज 5 पर
स्कूल बस हादसे में मारे गए 23 बच्चों का अंतिम संस्कार, लेकिन उससे पहले दिखा सरकार की मरी हुई आत्मा का असली चेहरा...
...और इस दुख पर कोई दिलासा नहीं
बेटी की लाश अंदर मॉर्चरी में थी, मां के आंसू पोछ रहा था बेटा
सीधी बात
मुझे यहां आकर पता चला कि शव रोककर रखे हैं...
-आप चाहते तो निर्देश दे सकते थे कि आपके आने तक शव रोककर न रखे जाएं, ये कैसी सियासत है?
-मुझे इसकी जानकारी नहीं थी कि मेरे आने की वजह से बच्चों के शवों को संस्कार के लिए ले जाने से रोका गया। मुझे सिर्फ ये बताया गया था कि अस्पताल जाना है और यहां आकर पता चला कि परिवार वाले बच्चों की लाशों के साथ इंतजार कर रहे थे।
-क्या पोस्टमार्टम पिछली शाम को नहीं हो सकता था, एक दिन तक क्यों नहीं होने दिया गया?
-ये पूरी व्यवस्था लोकल प्रशासन और एमएलए को देखनी चाहिए थी। पोस्टमार्टम अगर रात को करना था तो यह भी लोकल अथॉरिटी की ही जिम्मेदारी है।
जेपी नड्‌डा, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News
हिमाचलः मंडी में एक रिहायशी बिल्डिंग में लगी आग, कई लोग अंदर फंसे Warning Of Heavy Rainfall Today-5 vehicles buried in landslide, car washed away in Sirmaur हिमाचल में अगले दो दिन में भारी बारिश की संभावना: मौसम विभाग शिमलाः भारी बारिश से नेशनल हाईवे-5 पर लैंडस्लाइड, 5 मजदूर घायल
हिमाचल: कांगड़ा में एयरफोर्स का मिग-21 विमान क्रैश, पायलट लापता
हिमाचल प्रदेश: मनाली के पास 16 घंटे बाद NH-21 पर यातायात बहाल हिमाचल प्रदेश: मनाली के पास भूस्खलन, NH 21 पर रास्ता बंद हिमाचल: भूस्खलन के चलते कुल्लू में कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त, कोई हताहत नहीं हिमाचल प्रदेश: नैना देवी मंदिर के पास मुठभेड़ में 1 अपराधी ढेर, 2 गिरफ्तार हिमाचल: नैना देवी में पुलिस- बदमाशों में मुठभेड़, एक की मौत, दो अरेस्ट