Friday, July 20, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
राहुल गांधी कल अविश्‍वास प्रस्‍ताव के दौरान लोकसभा में देंगे स्‍पीच: आनंद शर्मा मिदनापुर: PM की रैली में घायल हुए लोगों से मिलने अस्‍पताल पहुंचीं ममता बनर्जी यूपी: देवरिया जेल पर डीएम ने मारा छापा, 1 मोबाइल, 4 पेन ड्राइव और चाकू बरामदसंसद भवन में 22 जुलाई को होगी कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक चार्जशीट फाइल करने के लिए सीबीआई पर दबाव डाला गया है: पी. चिदंबरम क्‍या औरतों को प्रार्थना करने का समान अधिकार नहीं: सबरीमाला पर जया बच्चन क्‍या औरतें पुरुषों से कमतर हैं: सबरीमाला पर जया बच्चनशहीद गुरसेवक के विद्यालय में मनाया गया वन महोत्सव, अध्यापकों व बच्चों ने लगाए 100 से अधिक पौधे
Haryana

भर्ती घोटाले -पुलिस, स्वास्थ्य व वित्त विभाग से था रैकेट का सीधा कनेक्शन

April 09, 2018 06:32 AM

COURSTEY DAINIK JAGRAN APRIL 9

पुलिस, स्वास्थ्य व वित्त विभाग से था रैकेट का सीधा कनेक्शन

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग में भर्ती घोटाले में नौकरियां बेचने वाले रैकेट पर अफसरों और नेताओं का हाथ
भर्ती घोटाला
गिरफ्तार आरोपितों के बैंक अकाउंट होंगे सीज
भर्ती घोटाले में गिरफ्तार किए गए आरोपितों की फोन कॉल्स डिटेल से हो रहे खुलासे1

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़ : हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग में नौकरियां बेचने वाले रैकेट के हाथ बेहद लंबे थे। इन कर्मचारियों का सरकार के कई विभागों से सीधा कनेक्शन था। वित्त विभाग के अलावा हरियाणा पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ भी इन कर्मचारियों के तार जुड़े हुए थे। यह कर्मचारी न सिर्फ नौकरियां लगवाने के लिए सौदेबाजी करते थे, बल्कि ज्वाइनिंग और तबादले कराने के खेल में भी जमकर पैसा कूटते थे। 1आयोग के पंचकूला मुख्यालय से पकड़े गए इन कर्मचारियों ने पुलिस पूछताछ के दौरान कई चौकाने वाले खुलासे किए हैं। सीएम फ्लाइंग ने इन कर्मचारियों को नौकरियों के लिए सौदेबाजी करते हुए गिरफ्तार किया था। हरियाणा पुलिस इन कर्मचारियों को कोर्ट से रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। 1 दरअसल, सरकार को हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के कुछ कर्मचारियों की कार्यप्रणाली पर तभी संदेह हो गया था, जब विधानसभा में इनेलो विधायक रवींद्र बलियाला ने यह मुद्दा उठाया कि जिन दिन पंचकूला में ¨हसा हुई, उस दिन कुछ कर्मचारी आयोग के कार्यालय में अंदर कुछ गड़बड़ी करते पाए गए थे। सरकार हालांकि तब चुप रही, लेकिन तब से इन कर्मचारियों की गतिविधियों पर निगाह रखी जा रही थी। 1नौकरियां बेचने के रैकेट में सामने आएंगे कई बड़े लोगों के नाम : पकड़े गए कर्मचारियों की फोन कॉल डिटेल और रिकार्ड़िग के आधार पर पुलिस मामले की तह में पहुंच रही है। इन कर्मचारियों को राजनीतिक संरक्षण की आशंका से भी इंकार नहीं किया जा सकता। पूछताछ आगे बढ़ने पर नौकरियां बेचने के रैकेट में कई बड़े लोगों के नाम भी सामने आ सकते हैं। गिरोह में हरियाणा सचिवालय के कुछ लोग शामिल हो सकते हैं। पूछताछ में पता चला है कि सभी आरोपितों ने काम बांटा हुआ था। किसी का काम नए लोगों को लेकर आना था तो किसी को पेमेंट लेकर। कोई रिकार्ड का रखरखाव करता था तो किसी को रोल नंबरों को रखने और उन पर काम कराने का जिम्मा था। 1राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़ : हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग में नौकरियां बेचने वाले रैकेट के हाथ बेहद लंबे थे। इन कर्मचारियों का सरकार के कई विभागों से सीधा कनेक्शन था। वित्त विभाग के अलावा हरियाणा पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ भी इन कर्मचारियों के तार जुड़े हुए थे। यह कर्मचारी न सिर्फ नौकरियां लगवाने के लिए सौदेबाजी करते थे, बल्कि ज्वाइनिंग और तबादले कराने के खेल में भी जमकर पैसा कूटते थे। 1आयोग के पंचकूला मुख्यालय से पकड़े गए इन कर्मचारियों ने पुलिस पूछताछ के दौरान कई चौकाने वाले खुलासे किए हैं। सीएम फ्लाइंग ने इन कर्मचारियों को नौकरियों के लिए सौदेबाजी करते हुए गिरफ्तार किया था। हरियाणा पुलिस इन कर्मचारियों को कोर्ट से रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। 1 दरअसल, सरकार को हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के कुछ कर्मचारियों की कार्यप्रणाली पर तभी संदेह हो गया था, जब विधानसभा में इनेलो विधायक रवींद्र बलियाला ने यह मुद्दा उठाया कि जिन दिन पंचकूला में ¨हसा हुई, उस दिन कुछ कर्मचारी आयोग के कार्यालय में अंदर कुछ गड़बड़ी करते पाए गए थे। सरकार हालांकि तब चुप रही, लेकिन तब से इन कर्मचारियों की गतिविधियों पर निगाह रखी जा रही थी। 1नौकरियां बेचने के रैकेट में सामने आएंगे कई बड़े लोगों के नाम : पकड़े गए कर्मचारियों की फोन कॉल डिटेल और रिकार्ड़िग के आधार पर पुलिस मामले की तह में पहुंच रही है। इन कर्मचारियों को राजनीतिक संरक्षण की आशंका से भी इंकार नहीं किया जा सकता। पूछताछ आगे बढ़ने पर नौकरियां बेचने के रैकेट में कई बड़े लोगों के नाम भी सामने आ सकते हैं। गिरोह में हरियाणा सचिवालय के कुछ लोग शामिल हो सकते हैं। पूछताछ में पता चला है कि सभी आरोपितों ने काम बांटा हुआ था। किसी का काम नए लोगों को लेकर आना था तो किसी को पेमेंट लेकर। कोई रिकार्ड का रखरखाव करता था तो किसी को रोल नंबरों को रखने और उन पर काम कराने का जिम्मा था। 1सिर्फ नौकरियां लगाने के लिए ही नहीं बल्कि ज्वाइनिंग और तबादलों में भी होती थी सौदेबाजी

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
शहीद गुरसेवक के विद्यालय में मनाया गया वन महोत्सव, अध्यापकों व बच्चों ने लगाए 100 से अधिक पौधे भारत सरकार द्वारा स्टूडेंट पुलिस कैडेट(एसपीसी) नामक नया कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है हरियाणा माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा स्कूलों में प्रिंसिपल के पद पर पदोन्नति करने के लिए राज्य के सरकारी स्कूलों में सेवारत पी.जी.टी तथा हैडमास्टरों के केस 20 दिन के अंदर मांगे गए हरियाणा उच्चतर शिक्षा विभाग ने छह विषयों के सभी 530 एसिसटैंट प्रोफेसरों को राज्य के सरकारी कालेजों में पोस्टिंग स्टेशन अलॉट कर दिए खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे.. और विधानसभा से गायब सुरजेवाला मीडिया में बड़ बड़ बोले : जवाहर यादव पूर्व डीआईजी सतपाल रंगा पुलिस अकेडमी के ट्रेनिंग सलाहकार नियुक्त हरियाणा सरकार ने अभिज्ञात अपराध योजना (आइडटिंफाइड क्राइम स्कीम) शुरू करने का निर्णय किया हरियाणा सरकार ने मत्स्य पालन के व्यवसाय में लगे या इसके इच्छुक अनुसूचित जाति के परिवारों की भलाई के लिए विभिन्न अनुदान योजनाएं शुरू की हरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से प्रदेश में नये पायरोलिसिस प्लांट्स की स्थापना पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खरीफ की फसलों के समर्थन मूल्य में ऐतिहासिक बढ़ोतरी की:रणधीर सिंह कापडीवास