Monday, September 24, 2018
Follow us on
Haryana

HARYANA-पंडाल के बाहर फरियादियों को ङोलनी पड़ी पुलिस की दुत्कार

April 09, 2018 06:23 AM

COURSTEY JAGRAN APRIL 9

पंडाल के बाहर फरियादियों को ङोलनी पड़ी पुलिस की दुत्कार

व्यापारियों का भरोसा जीतने की तरफ बढ़ रही सरकार
एलीवेटिड रोड के विरोध में आए कच्चा बेरी रोड के महिला-पुरुष
व्यापारी सम्मेलन में मुख्यमंत्री मनोहर लाल, प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, शिक्षा मंत्री रामविलास शर्मा, सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर, मंत्री कविता जैन।

जागरण संवाददाता, रोहतक : विराट में पहुंचे मुख्यमंत्री मनोहरलाल से मिलने के लिए फरियादियों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। आइटीआइ मैदान में पंडाल के अंदर मुख्यमंत्री भाषण दे रहे थे, जबकि उनसे मिलने के लिए आए फरियादियों के बाहर पुलिस की दुत्कार ङोलनी पड़ रही थी। एलीवेटिड रोड के विरोध में आए कच्चा बेरी रोड के महिला-पुरुषों की पुलिस के साथ खूब नोकझोंक हुई। यहां तक कि भीड़ को जबरन पुलिस की गाड़ी में बैठा दिया गया। हालांकि बाद में समझाने पर उन्हें जाने दिया गया। 1 में दोपहर करीब साढ़े 12 बजे मुख्यमंत्री मनोहरलाल पहुंचे। थोड़ी देर में उनका भाषण शुरू हो गया। इसी बीच कच्चा बेरी रोड के काफी संख्या में दुकानदार और महिलाएं आयोजन स्थल पर पहुंच गए। दुकानदारों का कहना था कि एलीवेटिड रोड के निर्माण से व्यापार प्रभावित हो जाएगा। इसे रुकवाया जाए। जैसे ही भीड़ मुख्यमंत्री से मिलने के लिए पंडाल की तरफ चली तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक दिया। भीड़ और पुलिस के बीच काफी नोकझोंक हुई। इसी दौरान भीड़ ने मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। आनन-फानन में पुलिसकर्मियों ने बस बुलाई और सभी को जबरन बस में बैठा दिया। बाद में भाजपा नेताओं ने आश्वासन दिया। 1इस दौरान पानीपत से भी कुछ किसान अपनी समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री से मिलने के लिए आइटीआइ मैदान में पहुंचे। करीब सौ से अधिक किसानों को पंडाल के बाहर रोक दिया। आखिर में उन्हें निराश होकर वापस लौटना पड़ा। इसके अलावा, रोडवेज कंडक्टर की परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं होने से नाराज अभ्यर्थी मुख्यमंत्री को ज्ञापन देने आए थे, लेकिन उन्हें मुख्यमंत्री से नहीं मिलने दिया। कोर्ट ने भी परिणाम घोषित करने के आदेश दिए है।एलिवेटिड रोड के विरोध में मुख्यमंत्री से मिलने जा रहे कच्चा बेरी रोड के निवासियों को रोकती पुलिस।राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़ : हरियाणा में दो बार जाट आंदोलन ङोल चुके व्यापारियों को गले लगाने की दिशा में सरकार धीरे-धीरे आगे बढ़ रही है। व्यापारियों को जोखिम से बचाने और दुर्घटना बीमा की सौगात देकर सरकार ने जहां उन्हें सामाजिक संरक्षण प्रदान करने की पहल की है, वहीं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा और ओमप्रकाश चौटाला पर सियासी हमले बोलकर मुख्यमंत्री ने व्यापारियों को अपनेपन का भी अहसास कराया है। हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुए नुकसान के बाद रोहतक में यह दूसरा था, जब सरकार खुद व्यापारियों के पास चलकर आई। इससे पहले कुरुक्षेत्र में राज्य स्तरीय सम्मेलन किया था। व्यापारी सबसे अधिक इंस्पेक्टरी राज से दुखी है। रोहतक सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने इसकी नब्ज पकड़ते हुए व्यापारियों को इंस्पेक्टरी राज से मुक्ति दिलाने का वादा कर उनका हमदर्द होने का संदेश दिया है।

Have something to say? Post your comment