Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
Haryana

बातचीत में एक पूर्व विधायक का नाम भी सामने आया, हरियाणा स्टाफ सलेक्शन कमीशन के गड़बड़झाला में शामिल

April 07, 2018 06:23 AM

COURSTEY DAINIK BHASKSR APRIL 7

6 लोगों ने कैसे की सैटिंग

चंडीगढ़/पंचकूला|हरियाणा स्टाफ सलेक्शन कमीशन के गड़बड़झाला में शामिल आठ लोग नौकरी की पूरी गारंटी लेते थे। नौकरी लगने के बाद मिठाई भी बांटी जाती थी। बधाई का दौर भी चलता था। यह लोग डीजीपी ऑफिस से फाइल के आगे बढ़ाने तक के पैसे ले रहे थे। बातचीत में एक पूर्व विधायक का नाम भी सामने आया है। पुलिस की ओर से इनकी कॉल रिकॉर्डिंग के जरिए जुटाई गई, वह जानकारी कि कैसे करते थे सैटिंग। पढ़िए..रिपोर्ट।

अनिल कुमार, सहायक, स्थापना शाखा, एचएसएससी

 

मोबाइल पर एक व्यक्ति से बातचीत हो रही है। दूसरा व्यक्ति कह रहा है कि स्टाफ नर्स की कल रात लिस्ट लगी है। मेरा सलेक्शन हो गया है। अनिल कहता है कि आप स्वास्थ्य विभाग में कोई सिफारिश देख लो, वहां से स्टेशन मिलने हैं। दूसरे नंबर पर अनिल की बात होती है। वह कहता है कि अंजलि का सिलेक्शन करवाने के लिए धन्यवाद और बधाई। तीसरे मोबाइल नंबर पर बातचीत होती है। इस व्यक्ति ने अनिल को एक मैसेज भेजा। इसमें शीला पुत्री दलबीर का नाम और उसके नंबर है। बताया जाता है कि स्टाफ नर्स में इसका नाम वेटिंग सूची में है। वेटिंग नंबर बारे पूछने पर अनिल उसे दूसरे दिन का समय देता है। अनिल की फिर चौथे व्यक्ति से मोबाइल पर बात होती है। इसमें यह व्यक्ति अनिल से कहता है कि 2 फरवरी को रिश्तेदार का ड्राइवर का इंटरव्यू है। इस पर अनिल उसे आने के लिए कहता है। उसका नंबर वाट्सएप पर मांगता है। अन्य नंबर पर फिर किसी से अनिल की बात होती है तो उक्त व्यक्ति भर्ती में इंटरव्यू कराने के बारे में पूछता है तो अनिल कहता है कि यह बात फोन पर नहीं होती। इस पर यह व्यक्ति रात को मिलने की बात कहता है। एक अन्य नंबर पर बात होती है। इसमें किसी सेक्रटरी साहब ने कार्यालय फोन से काल करके अनिल से चार उम्मीदवारों के इंटरव्यू के सीरियल नंबर पता किए। अनिल की एक अन्य मोबाइल पर बात होती है, जिसमें इस व्यक्ति ने कहा कि कल इनकी 9 बजे एंट्री है। आपसे मिलना है। अनिल ने कहा कि कल कार्यालय में ही मिलना। दस बजे से पहले मत आना तो यह व्यक्ति उससे कहता है कि कार्यालय में ढंग से बात नहीं हो पाएगी, मैं आपको घर पर ही मिलना चाहता हूं। इस पर अनिल हां भर देता है। इसके अलावा इनकी पैसों को लेकर बातें भी हुई। अनिल कहता है कि उतने तो भेजो और इन पैसों के लिए इन दोनों ने जीरकपुर में मुलाकात करने को कहा। अनिल की एक अन्य मोबाइल पर बात हुई, जिसमें यह महेश कुमार का रोल नंबर अनिल को बताता है। कहता है कि कल ही इंटरव्यू दिया है। अनिल की एक अन्य मोबाइल नंबर पर दोनों के बीच एमपीएचडब्ल्यू की लिस्ट में नाम नहीं आने को लेकर बातचीत हुई। अनिल की एक अन्य मोबाइल पर बात होती है। इसमें दूसरा व्यक्ति उसे उम्मीदवार को ईएसआई विभाग दिलवाने की बात कहता है। जो भी लेना-देना हो, वह भी हो जाएगा। इस पर अनिल उससे वाट्सएप पर उसके रोल नंबर मंगवाता है। एक अन्य मोबाइल नंबर पर अनिल से बातचीत में व्यक्ति कहता है कि क्लर्क की लिस्ट लग गई। मेरे उम्मीदवार का नाम नहीं है। इस पर अनिल कहता है कि लिस्ट नहीं है। आज लगेगी, देख लेना। इसके अलावा अन्य कॉल पर यह व्यक्ति अनिल का शुक्रिया करता है। कहता है कि आपकी वजह से मेरे वाले बंदे की सलेक्शन हो गई। अनिल की एक अन्य मोबाइल पर बात होती है। व्यक्ति ने अनिल से कहा कि जो क्लर्क वाला था, उसमें 20 प्रतिशत कर लेते। अनिल कुमार की एक अन्य मोबाइल नंबर पर बात हुई, जिसमें अनिल ने क्लर्क में सिलेक्शन होने पर मुबारकबाद दी। दूसरा व्यक्ति पैसे लेकर आने की बात कहता है।
एचएसएससी गड़बड़झाला: फोन पर लेते गारंटी और बांटी जाती मिठाई, पैसे की होती खुलकर बात
पुलिस की ओर से कॉल रिकॉर्डिंग के जरिए जुटाई बातचीत में पूर्व विधायक का नाम भी आया है सामने
आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के लिए ले जाते पुलिसकर्मी।
बलवान शर्मा, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण
बलवान एक मोबाइल नंबर पर बात करता है। इसमें दूसरा व्यक्ति बलवान से कहा रहा है कि क्लर्क की भर्ती बीसी-ए के दो कैंडिडेट लगवाने हैं तो बलवान ने उसे एक कैंडिडेट के 4 लाख के रेट बताए। इसके इंटरव्यू में 18 से ज्यादा नंबर लगवा देंगे। इसी कॉल में दूसरा व्यक्ति बलवान को कह रहा है कि हमारे 50-50 हजार रुपए तो बनने चाहिए। वह एक कैंडिडेट को उसके पास भेजने की बात कहता है। एक अन्य कॉल में बलवान से दूसरा यह व्यक्ति ग्रिड सब स्टेशन ऑपरेटर भर्ती का रेट पूछता है तो बलवान एक कैंडिडेट के 5 लाख 30 हजार 6 लाख रुपए मांगता है। दूसरा व्यक्ति कहता है कि सेक्रेट्री से बात करूं तो शायद 5 लाख में मान जाए। बलवान की आयोग में अधीक्षक सुभाष शर्मा से भी कई बार बातचीत हुई। एक कॉलेज में किसी भर्ती के इंटरव्यू में पैसे लेने की बात करते हैं, जिसमें बलवान कहता है कि 5 लाख 30 हजार से कम में काम नहीं होगा। एक अन्य कॉलेज में यह व्यक्ति बलवान से किसी ईबीपीजी कैंडिडेट के डॉक्यूमेंट वाट्सएप पर भेजने की पुष्टि करता है तो बलवान कहता है कि ये बिल्कुल अंगूठा छाप है। एक अन्य कॉल में दूसरा व्यक्ति बलवान को किसी कैंडिडेट के नर्सिंग होम के एक्सपीरियंस की डिटेल बता रहा है। एक अन्य कॉलेज में बलवान व दूसरा व्यक्ति क्लर्क भर्ती में सलेक्शन पर मुबारकबाद दे रहे हैं। इसी कॉलेज में बलवान किसी रोहतास का जिक्र कर रहा है। कहता है कि रोहतास की लड़की के 152 नंबर थे टेस्ट में और 20 नंबर और इंटरव्यू में लगवा दिए तो भी उसका सलेक्शन नहीं हुआ। एक अन्य मोबाइल नंबर पर बलवान किसी भर्ती में जनरल कैंडिडेट के 7 लाख रेट बता रहा है। बलवान एक अन्य मोबाइल नंबर पर नारनौंद के पूर्व विधायक प्रोफेसर राम भगत से बात करता है। बलवान उक्त व्यक्ति को फूफाजी कह रहा है। इसी कॉल में यह व्यक्ति बलवान से किसी मुकेश आहूजा और एक रिश्तेदार की इंटरव्यू में सेटिंग के लिए कह रहा है। बलवान कह रहा है कि उसके नंबर कम होने से चांस कम है।
सुरेंद्र, सहायक, सिंचाई विभाग, सचिवालय
सुरेंद्र की मोबाइल पर एक शख्स से बात होती है, जिसमें कहा जाता है कि डीजीपी के पास किसी फाइल को निकलवाना है। सुरेंद्र की एक और मोबाइल नंबर पर सिविल सर्जन ऑफिस में तैनात अकाउंट ऑफिसर से बात होती है जिसमें उसे गुड़गांव का एडिशनल चार्ज दिलवाने के लिए कहा जाता है। जिस पर सुरेंद्र ने कहा कि उसे पर्टिकुलर भेज दो। तो उसने दोबारा कॉल करके बताया कि रजनीश गर्ग व पीरा भिंद्रा से सिफारिश भी करवा रखी है। आपकी फीस पक्की है, आप काम करवा दो। सुरेंद्र की एक अन्य कॉल में भर्ती कंडक्टर भर्ती बारे बात होती है। जिसमें तीन आदमियों को भर्ती करवाने बारे कहा जाता है। सुरेंद्र काम करवाने के नाम पर 9 लाख रुपए किसी के पास पहुंचाने का जिक्र करता है।
धर्मेंद्र: कर्मचारी काॅन्ट्रेक्ट पर कराता था उपलब्ध
धर्मेंद्र की एक मोबाइल नंबर पर एचएसएससी में कार्यरत पुनीत से बात होती है। धर्मेंद्र को दूसरा व्यक्ति एक नंबर बताते हुए नो एक्सपीरियंस बताया और चेक करके बताने को कहा। एक अन्य कॉलेज पर दूसरे व्यक्ति ने धर्मेंद्र को पीसी ज्वेलर्स से पायल लेने बारे बात की तो उसने मिलने के लिए कहा। धर्मेंद्र को एक मोबाइल नंबर पर ड्राइवर भर्ती करवाने बारे शाम को पेमेंट आने की बात की। दूसरा व्यक्ति एक मैसेज भेजता है, जिसमें बताता है कि पेमेंट आ चुकी है। दूसरे दिन धर्मेंद्र इससे कहता है कि पेमेंट दे जाओ। दूसरे व्यक्ति ने एक अन्य कॉल पर धर्मेंद्र को बताया कि हिमाचल वाला कैंडिडेट 2 लाख बोल रहा था तो धर्मेंद्र उसे मना कर देता है। दूसरे व्यक्ति ने सुभाष के कैंडिडेट द्वारा 4 लाख पेमेंट आने के बारे में बताया तो धर्मेंद्र ने कहा कि वाट्सएप का प्रयोग किया करो।
पुनीत, अनुबंध कर्मचारी, आईटी विंग, एचएसएससी
मोबाइल पर बातचीत में पुनीत दूसरे व्यक्ति से कहा है कि जो पैकेट आप देकर गए हो, उसमें 10 लाख की जगह 8 लाख मिले हैं। दूसरा व्यक्ति कहता है कि गलती नहीं हो सकती। कम है तो पूरा कर देंगे। पुनीत ने उससे 8 जीबी या 16 जीबी रैम का एक लैपटाॅप की डिमांड भी उससे रखी। एक अन्य नंबर पर पुनीत दूसरे से वाट्सएप पर उसके रोल नंबर मंगवाता है। उससे कहता है कि सलेक्शन होने पर बताता हूं। दूसरी कॉल में पुनीत ने उस व्यक्ति को बताया कि मैंने इसके नंबर अच्छे लगवाए हैं। इसलिए यह मेरिट लिस्ट में आ गया। इसी कारण इसका बीसी-बी में न होकर सामान्य कैटेगरी में सलेक्शन हो गया। पुनीत अन्य नंबर पर कहता है कि आपने जो एक कम करवाया था, उसका बायोमैट्रिक करवाना है। बाक्स में पेपर पैकिंग में कटिंग मिली है। दूसरी कॉल में पुनीत ने दूसरे व्यक्ति से कहा कि आपने कैंडिडेट वेरिफाई व मिलान करके किसी और स्टांप लगाकर देनी है।
रोहतास, गोपनीय शाखा, हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग
रोहतास की एक मोबाइल नंबर पर बात होती है, जिसमें ड्राइवर भर्ती में किसी कैंडिडेट के नंबर के बारे में पूछा। यह भी कहा कि मैंने वो दो-तीन काम कहे थे, उनका क्या रहा। रोहतास बाद में बताने की बात कहता है। एक अन्य नंबर पर एक लेडीज बात करती है कि मैं मोहित की मम्मी बोल रही हूं। मेरे भतीजे का रोडवेज ड्राइवर का इंटरव्यू है तो रोहतास शाम को बात करने करने के लिए कहता है। इसके अलावा एक अन्य कॉल दूसरा व्यक्ति बलवान को किसी कैंडिडेट को ड्राइवर भर्ती में इंटरव्यू में सेटिंग करवाने के लिए कह रहा है। खर्चा-पानी की भी बातचीत होती है।
ये बरामदगी होनी है... पुनीत के फरीदाबाद स्थित घर से रुपए बरामद किए जाते हैं। वहीं, धर्मेंद्र के सेक्टर 15 पंचकूला से,अनिल कुमार के गोहाना स्थित भाई के घर से, बलवान के हिसार स्थित कापोडो गांव से, रोहताश के जींद से, सुरेंद्र के सोनीपत स्थित घर से, सुखविंदर के सोनीपत से रिकॉर्ड व रुपए बरामद किए जाने हैं। वहीं, रिकॉर्डिंग के लिए सीएम फ्लाइंग स्क्वायड की तरफ से पूरी कॉल रिकॉर्डिंग की दो सीडी तैयार की गई थी। इसमें एक सीडी 1एम

Have something to say? Post your comment