Monday, November 19, 2018
Follow us on
Haryana

राष्ट्रीय ध्वज फहराकर गत 70 सालों से झेल रहे गुलामी की भावना से गांववासियों को मुक्त किया:मनोहर लाल

March 23, 2018 06:52 PM

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने देश के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अमर बलिदान देने वाले जिला भिवानी के रोहनात गांव में आज राष्ट्रीय ध्वज फहराकर गत 70 सालों से झेल रहे गुलामी की भावना से गांववासियों को मुक्त किया। मुख्यमंत्री ने इस गांव की चार एकड़ भूमि में शहीद स्मारक बनवाने, गांव की प्रेरणादायक वीरगाथा को इसी सत्र से शैक्षणिक पाठ्यक्रम में शामिल करने, सरकार के खर्च पर गांव रोहनात पर प्रेरक फिल्म बनवाने, एक करोड़ रुपए की राशि से रोहनात फ्रीडम ट्रस्ट बनाकर गांव के 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों का नि:शुल्क ईलाज करवाने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पांच लाख तक की राशि से नि:शुल्क उपचार करवाने वाली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गई घोषणा आयुष्मान भारत दो अक्टुबर से आरम्भ होगी। रोहनात गांव के बुजुर्गों के लिए वह एक अप्रैल से रोहनात फ्रीडम ट्रस्ट बनाकर इस सुविधा की घोषण करते है। इसमें हरियाणा सरकार एक करोड़ रूपए देगी, जिससे गांव के 60 साल से अधिक आयु के बुजुर्गों का नि:शुल्क ईलाज करवाया जाएगा।  मुख्यमंत्री ने बताया कि अंबाला में 22 एकड़ भूमि में पूरे प्रदेश के वीर शहीदों की याद में शहीद स्मारक बनवाया जा रहा है। इसी तरह का स्मारक चार एकड़ भूमि में गांव रोहनात में बनवाया जाएगा।
       भिवानी के गांव रोहनात में राष्ट्रीय ध्वज फहराने वाले हरियाणा के पहले मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने खुद को गर्वित महसूस करते हुए कहा कि वे वीर भूमि की माटी को सलाम करते हैं। उन्होंंने गांववासियों का अभिनंदन करते हुए कहा कि वह आज अपना स्वागत करवाने नहीं बल्कि गांव रोहनात के बहादुर लोगों को नमन करने आए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव रोहनात के लिए आज 23 मार्च का दिन सबसे बड़ा खुशी का दिन है। जिस प्रकार से देश आजाद हुआ तो लोगों ने अपने घरों में घी के दीए जलाए थे, उसी प्रकार आज भी रोहनात वासी अपने घरों में घी के दीए जलाकर आजादी के जश्र को मनाएं। 
उन्होंने कहा कि भविष्य में रोहनात कभी भी खुद को मुख्यधारा से अलग महसूस न करें। गांव को जब भी उनकी जरूरत होगी, वे उसको पूरा करेंगे। आज जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने गांव के चारों तालाब की चार दीवारी बनवाने, स्वास्थ्य केंद्र के भवन का पुनर्निर्माण करवाने, पानी की पाईप लाईन बिछवाने, जलघर की मरम्मत करवाने, गांव में सडक़ें बनवाने, दो मुख्य द्वार बनवाने, नेहरू पार्क की चार दीवारी बनवाने तथा जोहड़ से नहर तक नाला बनवाने व श्मशान घाट का सुधार करवाने आदि मांगों को पूरा करने की घोषणा की। 
    जनसभा को संबोधित करने से पहले मुख्यमंत्री ने जनौषधि मैडिकल स्टोर, व्यायामशाला, गौरवपट्ट व पुस्तकालय का शुभारंभ किया। उन्होंने गांव की वेबसाईट को लांच किया। मुख्यमंत्री ने एक बस क्यू शेल्टर, आंगनवाड़ी केन्द्र व नहरी पुल का शिलान्यास किया। उन्होंने भिवानी सहकारी बैंक के मोबाइल एटीएम वैन का भी शुभारंभ किया। गांव के बुजुर्ग तालाराम के साथ मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और तिरंगे झंडे को सलामी दी। उन्होंने शहीद भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव के चित्र के आगे दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। 
    उन्होंने बताया कि 29 मई 1857 को रोहनात में अग्रेजों ने भारी जुल्म ढ़ाया था। गांव के लोगों को हांसी ले जाकर बुलडोजर से कुचल दिया गया था। गांव के बीडदू राम, रूपा खाती व नौंदा जाट को तोप के आगे बांधकर उड़ा दिया गया था। गांव की जमीन को कुर्क कर नीलाम कर दिया गया था। बरसों से इस गांव की किसी सरकार ने सुध नही ली थी। अब भविष्य में रोहनात को विकास व प्रगति की दृष्टि से उन्नत बनाया जाएगा। उन्होंने गांव के बुजुर्ग रामकुमार, अमीर सिंह, टेकराम, पंडित रिसाल सिंह व तालाराम को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया। 
शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने रोहनात में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस गांव के लोगों ने बहादुरी दिखाते हुए हांसी में 11 अंग्रेज अधिकारियों को मार गिराया था। इसी प्रकार मंगाली गांव के लोगों ने 1857 में हिसार जाकर 12 अंग्रेज अधिकारियों को मारा था। उन्होंने कहा कि आज हरियाणा सरकार ने रोहनात को परतंत्रता की भावना से आजाद कर दिया है। गांव के लोगों की जमीन सहित हर मामले में सरकार पूरी मदद करेगी। 
        बवानीखेड़ा के विधायक विशम्बर बाल्मिकी ने कहा कि उन्हें गर्व है कि उनके विधान सभा क्षेत्र में रोहनात जैसा बहादुर गांव है। यहां के शूरवीरों ने 1857 की लड़ाई में ब्रिटिश हुकूमत से लोहा लिया था। हिन्दू मुस्लिम दोनों धर्मों के लोगों ने मिलकर वह लड़ाई लड़ी थी। जनसभा में गांव की सरपंच रीनू बूरा ने मुख्यमंत्री व अतिथिगण का स्वागत किया। मुख्यमंत्री का सरपंच प्रतिनिधि रविन्द्र बूरा ने पगड़ी पहनाकर स्वागत किया। 
    इस अवसर पर भिवानी के विधायक घनश्याम दास सर्राफ, चेयरमैन ऋषि प्रकाश शर्मा, मुख्यमंत्री के ओएसडी कैप्टन भूपेन्द्र सिंह, जिला परिषद के चेयरमैन रमेश ओला, भाजपा जिला अध्यक्ष नंदराम धानिया, उपायुक्त अंशज सिंह, पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र भौरिया, एसडीएम सतीश कुमार, ताराचंद अग्रवाल, शंकर धूपड, रमेश सोनी, राजेश यादव, कमल फौजी, सतेन्द्र गोयत, सुंदर अत्री, सुनील सरपंच, दिलबाग भाकर, मीना परमार, उमेश भारद्वाज, रामभूल सरपंच, भीष्म सिवाच, जयबीर सिंह, महेश सरपंच, प्रशांत कुमार, राकेश फौजी, सुरेश सरदाना, धर्मबीर सिंह, राजेन्द्र पानू, पृथ्वी नंबदार, देवेन्द्र कासवां, पं. अमरनाथ, विजय, सीताराम, दलबीर पानू, ओमप्रकाश, सूरजमल कासवां, विनोद, रणबीर सिंह, जगदीश, सुरेन्द्र, राजेश, नाबार्ड प्रबंधक सोहन लाल इत्यादि मौजूद थे।

Have something to say? Post your comment