Sunday, October 21, 2018
Follow us on
Chandigarh

स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पंजाब यूनिवर्सिटी के पूर्व प्राध्यापक योगेन्द्र यादव पंजाब यूनिवर्सिटी में छात्रों से बात करेंगे

February 23, 2018 12:13 PM

राष्ट्रवाद को लेकर जताया जा रहा ख़तरा क्या सच में देश के सामने है? अगर है तो इससे निपटने में युवाओं, ख़ासकर छात्रवर्ग की क्या सोच और भूमिका होनी चाहिए? इस विषय पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पंजाब यूनिवर्सिटी के पूर्व प्राध्यापक योगेन्द्र यादव पंजाब यूनिवर्सिटी में छात्रों से बात करेंगे. राष्ट्रवाद को लेकर देशभर में उठ रहे सवालों को लेकर उपजी स्थिति के संदर्भ में राष्ट्र के स्वधर्म के मुद्दे पर विचार रखेंगे। 

‘वे छात्र, किसान और राष्ट्रवाद; आज के सुलगते सवाल’ विषय पर युवाओं को सम्बोधित करेंगे। योगेन्द्र यादव आगामी छात्र संघ चुनावों के सम्बंध में भी चर्चा करेंगे।
‘छात्र, किसान और राष्ट्रवाद’
आज के सुलगते सवाल
वक़्ता: योगेन्द्र यादव
स्थान: सेमिनार हाल
समय: 3 बजे दोपहर
दिन: 23 फ़रवरी 2018, शुक्रवार
राजीव गांधी कालेज भवन (नजदीक बॉयज होस्टल नम्बर 7)
पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
सीएलएस ने अपनी वार्षिक लघु कहानी लेखन प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए चंडीगढ़ के डीएसपी का अब अंडेमान निकोबार सहित अन्य यूटी में नहीं होगा ट्रांसफर एचसीएस सुधांशु गौतम बने डीपीआर यूटी चंडीगढ़
आदर्श पब्लिक (स्मार्ट) स्कूल में आयोजित हुई हैल्दी टिफिन प्रतियोगिता
राम बिलास शर्मा ने हरियाणा उर्दू अकादमी के डायरेक्टर डॉक्टर नरेंद्र कुमार उपमन्यु द्वारा लिखित एवं संपादित दो किताबों हरियाणा के प्रमुख तीर्थ स्थल एवं हिंदुस्तान की महान हस्तियां का चंडीगढ़ में अपने निवास पर विमोचन किया। चंडीगढ़ में आज हरियाणा उर्दू अकादमी के डायरेक्टर डॉ नरेंद्र उपमन्यु ने हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य से शिष्टाचार भेंट की सियेट ने लांच किये ग्रिप्प एक्स थ्री टायर्स
श्री राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण हेतु केंद्र सरकार संसद में क़ानून बनाकर मार्ग प्रशस्त करे: विहिप
गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टैच्यू आफ यूनिटी के अनावरण 1 नवंबर के बाद लोग दर्शन के लिए जाये:रामबिलास शर्मा स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी के निर्माण में हरियाणा-पंजाब के किसानों का भी अमूल्य योगदान है: भूपेंद्रसिंह चुडासमा