Tuesday, October 16, 2018
Follow us on
Haryana

हरियाणा सरकार ने राज्य में धान की पराली तथा अन्य फसलों के अवशेषों से इथेनॉल बनाने के लिए पानीपत जिला में एक प्लांट लगाने को मंजूरी प्रदान कर दी

December 28, 2017 07:05 PM

हरियाणा सरकार ने राज्य में धान की पराली तथा अन्य फसलों के अवशेषों से इथेनॉल बनाने के लिए पानीपत जिला में एक प्लांट लगाने को मंजूरी प्रदान कर दी है। सरकार के इस कदम से जहां प्रदूषण में कमी आएगी वहीं किसानों को फसलों के अवशेषों की बिक्री होने से मुनाफा भी होगा।

आज यहां मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई ‘हरियाणा इंटरप्राइज प्रमोशन बोर्ड’ की 6वीं बैठक में लिए गए उक्त निर्णय से जहां प्रदेश में बिजनेस को बढ़ावा मिलेगा वहीं प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से हरियाणा में रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। 
बैठक में पानीपत के उपायुक्त ने बताया कि उक्त प्लांट के लिए भारतीय तेल निगम लिमिटेड (आईओसीएल) को पानीपत जिला के गांव बाओली की पंचायत मौजूदा बाजार दर पर अपनी पंचायती भूमि देने के लिए तैयार है जिसकी मुख्यमंत्री ने मंजूरी दे दी। प्लांट लगाने वाली भारतीय तेल निगम लिमिटेड कंपनी ‘गलोबल 500’ की सूची के अनुसार वर्ष 2016 में भारत में प्रथम तथा विश्व की सबसे बड़ी कंपनियों में 161वें स्थान पर रही है। 
यह कंपनी फसल के अवशेषों और अन्य बायोमास का उपयोग करके दूसरी पीढ़ी के इथनॉल का उत्पादन शुरू करना चाहती है। प्रस्तावित प्लांट की क्षमता प्रति दिन 100 किलो इथनोल होगी। इस कंपनी का 2 लाख टन चावल का भूसा यानि पराली को कच्चा माल के रूप में खरीद करने का प्रस्ताव है, जो कि 4 जिलों करनाल, पानीपत, सोनीपत और कुरुक्षेत्र का एक सीजन का कुल उत्पादन है। अभी तक ज्यादातर किसान इस पराली को जलाते रहे हैं जिससे प्रदूषण फैलता है। इस प्लांट के लगने से राज्य में प्रदूषण उत्सर्जन को काफी हद तक कम करने में मदद मिलेगी। 
बैठक में कंपनी के अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि धान की पराली को सीजन में जल्द से जल्द एकत्रित करने के लिए बुनियादी ढ़ांचा तैयार किया जाएगा ताकि किसानों को अगले सीजन के लिए अपनी फसल की बुवाई करने में देरी न हो। राज्य सरकार के इस कदम से जहां किसानों की आय में भी बढ़ोतरी होगी वहीं इस परियोजना से राज्य में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर रोजगार पैदा होंगे। 
बैठक में हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री राम बिलास शर्मा,कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़, लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह, उद्योग मंत्री श्री विपुल गोयल, हरियाणा के मुख्य सचिव श्री डी.एस ढ़ेसी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर, उद्योग विभाग के प्रधान सचिव श्री सुधीर राजपाल, निदेशक श्री अशोक सांगवान और एचएसआईआईडीसी के प्रबंध निदेशक श्री राजशेखर वुंडरू तथा विदेशी निवेश एवं एनआरआई सैल के चेयरमैन श्री अश्विन जौहर के अलावा कई वरिष्ठï अधिकारी उपस्थित थे।
Have something to say? Post your comment