Wednesday, October 24, 2018
Follow us on
Haryana

महाराजा सूरजमल की 254वे शौर्य दिवस पर धारौली में निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन 25 दिसम्बर 2017 को

December 21, 2017 02:24 PM

झज्जर जिलामुख्यालय के अंतिम छौर पर बसे वीरों की देवभूमि कहे जाने वाले गांव धरौली की सामाजिक संस्था मां-मातृभूमि सेवा समिति द्वारा हिन्दू धर्म रक्षक व जाट शिरोमणि, मुगलों के आक्रमण का मुंह तोड़ जवाब देने वाले परमप्रतापी महाराजा सूरजमल जाट की 254वे शौर्य दिवस पर 25 दिसम्बर 2017 को प्रातः 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक धारौली के श्री हनुमान जी के मंदिर के प्रांगण में निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया जाएगा ।

मां-मातृभूमि सेवा समिति के अध्यक्ष, युद्धवीर सिंह लांबा ने बताया है कि यादव डेंटल क्लीनिक, कोसली के डॉ. धीरेंद्र यादव द्वारा दांतों की निःशुल्क जांच की जाएगी और आई क्यू सुपर स्पेशलिटी आई हॉस्पिटल – झज्जर के डॉ.मनीष चौधरी द्वारा आँखों की निःशुल्क जांच की जाएगी।

दांतों - आँखों की निःशुल्क जांच के लिए 25 दिसम्बर 2017 को धारौली में जरूर पहुंचे ।

सुप्रसिद्ध कवयित्री डा. लाज कौशल, सहायक प्रोफेसर, सरकार कॉलेज, कोसली निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होगी ।
हिंदी अकादमी, दिल्ली से सम्मानित युवा साहित्यकार नवल पाल प्रभाकर साल्हावास निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर कार्यक्रम में विशेष अतिथि होंगे ।
मां-मातृभूमि सेवा समिति के अध्यक्ष युद्धवीर सिंह लांबा निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे ।

नेत्रहीनों की अंधेरी जिंदगी में उजियारा की किरण बिखेरने के लिए 2009 में पीजीआई, रोहतक में मरणोपरांत नेत्रदान संकल्प प्रपत्र भरने वाले व मानव कल्याण के लिए अब तक 9 बार रक्तदान कर चुके युद्धवीर सिंह लांबा ने बताया है कि महाराजा सूरजमल भरतपुर के वीर महाराजा थे, उनका जन्म 13 फरवरी, 1707 को हुआ था और 25 दिसम्बर, 1763 को नवाब नजीबुद्दौला के साथ हुए युद्ध में गाजियाबाद और दिल्ली के मध्य हिंडन नदी के तट पर महाराजा सूरजमल ने वीरगति पायी। भारत पर मुगलों के आक्रमणों का विरोध करने वाले राजाओं में जाट राजा सूरजमल का बड़े ही गौरव के साथ लिया जाता है। उन्होंने मरते दम तक कभी किसी के सामने घुटने नहीं टेके।

Have something to say? Post your comment