Tuesday, November 20, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा के निर्देशानुसार हरियाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा (एचटेट) का आयोजन 5 जनवरी, 2019 व 6 जनवरी, 2019 को करवाया जा रहा है। 20 नवंबर को 10 बजे पुलिस डीएवी स्कूल में होगा प्राथमिक सहायता वर्कशाप का आयोजनकर्नाटक को आपदाग्रस्‍त इलाकों के लिए 546.21 करोड़ रुपये दिए जाने की मंजूरीकोलकाता: CM चंद्रबाबू नायडू पहुंचे नबाना, खुद ममता बनर्जी ने उन्‍हें रिसीव किया पूर्व सीएम दिग्‍विजय सिंह ने भीमा-कोरेगांव मामले में नाम आने पर दी सफाईइंदिरा गांधी की 101वीं जयंती: राहुल, सोनिया, राजनाथ और आडवाणी ने दी श्रद्धांजलिशरणदीप कौर बराड ने आज अपने कार्यालय में सरपंचों और किसानों को सम्मानित कियारंजीता मेहता को मिली बड़ी जिम्मेदारी, अजमेर डिवीजन का नैशनल कोर्डिनेटर बनाया
Haryana

हरियाणा सरकार ने यमुनानगर जिले में खिलांवाला खोल पर 29.10 करोड़ रुपये की लागत से खिलांवाला बांध का निर्माण करने का निर्णय लिया

August 31, 2017 05:03 PM
 हरियाणा सरकार ने यमुनानगर जिले में खिलांवाला खोल पर 29.10 करोड़ रुपये की लागत से खिलांवाला बांध का निर्माण करने का निर्णय लिया है। इस बांध में एकत्रित होने वाले पानी का उपयोग यमुनानगर जिले के छछरौली तहसील के नौ गांवों की 3200 एकड़ भूमि की सिंचाई के लिए किया जाएगा।  
        सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते बताते हुए बताया कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने इस संबंध में एक प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। डब्ल्यूएपीसीओएस द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के मुताबिक परियोजना को व्यावहारिक पाया गया है।
        उन्होंने बताया कि चूंकि खिलांवाला खोल और पथराला नदी, यमुना नदी की सहायक नदियां हैं, इसलिए खिलांवाला बांध के निर्माण के लिए वन और पर्यावरण विभाग के अलावा अपर यमुना नदी बोर्ड (यूवाईआरबी) से भी आवश्यक स्वीकृतियां ली गई हैं।
          उन्होंने बताया कि खिलांवाला बांध को पथराला नदी की एक सहायक नदी खिलांवाला खोल पर बनाने का प्रस्ताव है, जो दादुपुर के पास यमुना नदी में मिलती है। मानसून के दौरान, खिलांवाला खोल मिट्टी के कटाव के रूप में भूमि को बहुत नुकसान पहुंचाता है। इस बांध का निर्माण न केवल बाढ़ के नियंत्रण में बल्कि सिंचाई, भूजल रिचार्जिंग और पर्यटन को बढ़ावा देने में भी मदद करेगा। इसके अलावा, बांध के जलाशय में मत्स्य पालन से काफी लाभ होने की उम्मीद है क्योंकि यह यमुना नगर के निकट है। उन्होंने बताया कि मत्स्य विभाग द्वारा जलाशय में मत्स्य पालन किया जाएगा और इसके परिणामस्वरूप राजस्व प्राप्त होगा। इसके अलावा, बांध का निर्माण विभिन्न प्रकार के पक्षियों, विशेष रूप से सारसों को आकर्षित करेगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र को पर्यटन विभाग द्वारा विकसित किया जा सकता है, जिससे अधिक से अधिक पर्यटक आकर्षित होंगे।
          उन्होंने बताया कि निर्माण के उपरांत यह बांध 25 वर्षों तक हर वर्ष 7.68 क्यूसिक पानी की आपूर्ति कर सकेगा जिससे 3200 एकड़ क्षेत्र में सिंचाई होने के साथ-साथ स्थानीय भूजल स्तर में सुधार होगा। खिलांवाला बांध की प्रस्तावित ऊँचाई 20.50 मीटर है, जिसके ऊपरी भाग की चौड़ाई 6.0 मीटर और लम्बाई 280 मीटर होगी। प्रस्तावित बांध का कैचमेंट एरिया 7.17 वर्ग किलोमीटर है जो पूरी तरह से हरियाणा में आता है। उन्होंने कहा कि कैचमेंट एरिया से अपवाह (रनऑफ) 50 प्रतिशत निर्भरता पर 403.03 हेक्टेयर मीटर और 75 प्रतिशत निर्भरता पर 206.0 हेक्टेयर मीटर आंका गया है। उन्होंने कहा कि यह अपवाह पानी की कमी वाले 97 दिनों की अवधि के लिए 7.68 क्यूसिकपानी उपलब्ध करवाने के लिए पर्याप्त है।  
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा के निर्देशानुसार हरियाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा (एचटेट) का आयोजन 5 जनवरी, 2019 व 6 जनवरी, 2019 को करवाया जा रहा है। 20 नवंबर को 10 बजे पुलिस डीएवी स्कूल में होगा प्राथमिक सहायता वर्कशाप का आयोजन शरणदीप कौर बराड ने आज अपने कार्यालय में सरपंचों और किसानों को सम्मानित किया रंजीता मेहता को मिली बड़ी जिम्मेदारी, अजमेर डिवीजन का नैशनल कोर्डिनेटर बनाया गुर्जर समाज कल्याण परिषद पंचकूला ने बिग्रेडियर कुलदीप सिंह चांदपूरी के निधन पर शोक प्रकट किया जैन व सिख समुदाय के लोगों ने की अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य मंजीत सिंह से मुलाकात 28 नवम्बर को पंचायत भवन अम्बाला शहर में राष्ट्रीय चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा मोदी बोले- कॉमनवेल्थ में होना था KMP एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल, अब जाकर पूरा हुआ
मोदी बोले- हरियाणा का मतलब हिम्मत होता है
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस वे हरियाणावासियों को किया समर्पित