Wednesday, November 21, 2018
Follow us on
Haryana

फतेहाबाद में राज्य स्तर पर मनाया जाएगा मुक्ति दिवस

August 21, 2017 05:40 PM
 घुमंतु, अर्ध घुमंतु और विमुक्त जातियों को सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक स्तर पर मजबूत करने की प्रक्रिया में 3 सितंबर को फतेहाबाद में मुक्ति दिवस के तौर पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसमें मुख्यमंत्री मनोहर लाल अपने मंत्रिमंडल सदस्यों के साथ घुमन्तु, अर्धघुमंतु एवं विमुक्त जातियों को मुख्यधारा में लाने की तैयारी के लिए घोषणाओं का पिटारा खोलेंगे। इस आयोजन की कामयाबी के लिए सलाहकार समिति चेयरमैन राजीव जैन की निगरानी में तैयारियां जोर पकड चुकी हैं।
 
चंडीगढ में विमुक्त, घुमन्तु, अर्ध घुमन्तु एवं टपरीवास जाति मामले हरियाणा की सलाहकार समिति के चेयरमैन राजीव जैन की अध्यक्षता में समाज के विभिन्न संघ एवं प्रतिनिधियों की बैठक आयोजित हुई। बैठक में फतेहाबाद में होने वाले राज्य स्तरीय मुक्ति दिवस कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर रणनीति तैयार की गई। प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर अस्थाई तौर पर रहने को मजबूर तथा समाज की मुख्यधारा में आने के लिए बेताब इस समुदाय के लोगों को फतेहाबाद में होने वाले आयोजन में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचना सुनिश्चित करने के लिए जिला स्तर पर प्रभारी नियुक्त किए गए हैं। संबंधित प्रभारी अपने जिले में घुमन्तु, अर्ध घुमन्तु एवं टपरीवास जाति के रह रहे लोगों के मध्य पहुंच कर उन्हें 3 सितंबर को फतेहाबाद पहुंचने के लिए आमंत्रित करेंगे। समिति चेयरमैन एवं प्रदेश भाजपा मीडिया प्रमुख राजीव जैन ने कहा कि 30 बिरादरियों के प्रतिनिधि क्षेत्रीय आधार पर फतेहाबाद कार्यक्रम को कामयाब बनाने के लिए रूपरेखा तैयार कर रहे हैं। 
 
उन्होंने बताया कि 30 बिरादरियों की अलग-अलग टोलियां गांव, बस्तियों में जाकर रोजाना 50 से अधिक नुक्कड सभाएं कर रही हैं, ताकि उज्ज्वल भविष्य की दिशा निर्धारण करने वाले इस कार्यक्रम में पूरा समाज अपनी एकजुटता का प्रदर्शन कर सके। बैठक में समिति चेयरमैन राजीव जैन ने सभी संघ प्रतिनिधियों से आह्वान किया कि भाजपा द्वारा इस समाज को बेहतर प्रतिनिधित्व के अवसर प्रदान किए हैं। इसलिए वह संगठित होकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल के समक्ष अपनी आवाज बुलंद करेंगे, उतना ही मुख्यमंत्री उनके विकास की दिशा में योजनाओं का पिटारा खोलेंगे। उन्होंने कहा कि विमुक्त, घुमन्तु, अर्ध घुमन्तु एवं टपरीवास जातियों को सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक और राजनीतिक तौर पर मजबूत करने की रणनीति तैयार की गई है और इस अभियान में फतेहाबाद में होने वाला मुक्ति दिवस कार्यक्रम अपनी कामयाबी के साथ समाज को नई दिशा प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के समक्ष इन जातियों को सामाजिक स्तर पर मजबूत करने के साथ-साथ जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाने के दायरे में लाने के लिए 15 सिफारिशों की अनुशंसा की जा चुकी है। जिसपर स्वयं मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा उचित कार्रवाई करने का भरोसा दिया गया है। उन्होंने खुद चंडीगढ, फतेहाबाद, सोनीपत में समाज प्रतिनिधियों की बैठक लेकर इस आयोजन को कामयाब बनाने के लिए योजना बनाई है, जबकि अन्य स्थानों पर समाज के प्रतिनिधि लगातार पहुंचकर अधिक से अधिक लोगों को फतेहाबाद लाने की कवायद में जुट गए हैं। इस अवसर पर विमुक्त घुमंतु विकास बोर्ड के चेयरमैन डॉ. बलवान सिंह, विमुक्त, घुमंतु जनजाति कल्याण संघ के सचिव डॉ रामनिवास, बजांरा सभा अध्यक्ष जसमेर बंजारा, ओढ सभा से लक्ष्मण नापा, अश्विनी, डूम विकास मंच से सुरेश, सुनील, सूप सेवादासी संघ (डेहा) हवासिंह, गोपीचंद, सांसी कल्याण संघ से डा धनपत, पालेराम, बाजीगर सभा से रामस्वरूप, सतपाल बाजीगर, गाडिया लोहार विकास संघ से हनुमान गोदारा व हरिओम, पाल गडरिया समाज से राकेश पाल, रमेश पाल, रणबीर पाल, जोगीनाथ समाज से अनूप व इंद्रसिंह, सपेरा समाज से मास्टर रोहतास व प्रकाश नाथ, पवन सागर, शेरसिंह आदि मौजूद रहे। 
Have something to say? Post your comment