Thursday, April 25, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
28 को राष्ट्रीय पंजाबी महासंघ के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री खट्टर करेंगे शिरकतकल से दुष्यंत के चुनावी समर में उतरेंगी विधायक नैना चौटालावायदों को लेकर कोई नेता से सवाल करे तो भाजपाई कर देते हैं लहुलुहान- दुष्यंतजननायक जनता पार्टी ने चुनाव आयोग से की शिकायत बीजेपी प्रत्याशी सुनीता दुग्गल के HCS भाई और IPS पति की पोस्टिंग पर जताई आपत्तिकर्मचारियों के कोप का भाजन बनेगी भाजपा : महासंघपूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने पूर्व विधायक सन्त कंवर को सोनीपत संसदीय क्षेत्र में सोनीपत जिला का तथा पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड्डा को जीन्द जिला का को-आर्डिनेटर नियुक्त किया 27 अप्रैल 2019 को बसंत गिरिजा श्री सोसाईटी द्वारा चंडीगढ़ के टैगोर थियेटर में ‘सुरीला सफर-12’ का आयोजन किया जाएगा मतदान को बढावा देने एवं मतदाताओं में जागरूकता लाने के लिए प्रदेश के सभी जिला में 5 मई को व्यापक स्तर पर स्वीप कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा:राजीव रंजन
Dharam Karam

हरियाली तीज विशेष, जानें तीज की कुछ खास बातें

July 25, 2017 04:28 PM

पुराणों की कथा के अनुसार सावन महीने के शुक्लपक्ष की तृतीया तिथि के दिन भगवान शिव ने देवी पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन दिया और साथ ही अपनी पत्नी बनाने का भी वरदान दिया। शिव के वरदान से देवी पार्वती के मन में हरियाली छाई गई और वह आनंद से झूम उठीं इसलिए इस तृतीया तिथि को हरियाली तीज के नाम से जाना जाता है। दूसरी ओर सावन में प्रकृति हरे रंग का चादर ओढे रहती है इसलिए भी सावह की तृतीया को हरियाली और कज्जली तीज के नाम से पुकारते हैं।इस वर्ष यह तीज 26 जुलाई बुधवार को है। इस दिन तृतीया तिथि सुबह 9 बजकर 57 मिनट से रात 8 बजकर 8 मिनट तक है। इसलिए तीज के विधिविधान इसी समय किए जाएंगे। भविष्यपुराण में उल्लेख किया गया है कि तृतीय के व्रत और पूजन से सुहागन स्त्रियों का सौभाग्य बढ़ता है और कुंवारी कन्याओं के विवाह का योग प्रबल होकर मनोनुकूल वर प्राप्त होता है।ऐसी कथा है कि भगवान शिव ने देवी पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर नारी जाति को यह वरदान दिया है कि जो भी कुंवारी कन्याएं और सुहागन स्त्रियां तृतीय तिथि को देवी पार्वती के साथ शिव की पूजा करेंगी उनका दाम्पत्य जीवन खुशहाल होगा।हरियाली तीज के मौके पर नई नवेली दुल्हन के मायके से नए वस्त्र, सुहाग सामग्री, मेंहदी और मिठाई आने की परंपरा रही है। माना जाता है कि यह मायके की ओर से दुल्हनों के लिए सुहाग का आशीर्वाद होता है। पूर्वजन्म में जब देवी पार्वती का सती रूप में अवतार हुआ था तब शिव से विवाह कर लेने के कारण माता-पिता ने इन्हें त्याग दिया था। पार्वती रूप में जब देवी का जन्म हुआ तो माता-पिता ने अपनी भूल सुधारने के लिए देवी को सुहाग सामग्री भेजा था। इस कारण से हरियाली तीज में इस तरह की परंपरा चली आ रही है।हर व्रत की तरह हरियाली तीज के भी कुछ नियम हैं। इस व्रत में मायके से जो सुहाग सामग्री आती है उससे सुहागन ऋंगार करती हैं इसके बाद बालूका से बने शिवलिंग की पूजा की जाती है। इसका कारण यह है कि देवी पार्वती ने वन में बालूका से ही शिवलिंग बनाकर उनकी तपस्या की थी। इस व्रत में तीन चीजों का त्याग जरूरी माना गया है- पति से छल-कपट, असत्य वचन का त्याग और तीसरा दूसरों की निंदा

 
Have something to say? Post your comment
 
More Dharam Karam News
पांच दिवसीय अखंड मात-पिता कामधेनु महायज्ञ" के तीसरे दिन आहुति में शामिल हुए अनेक श्रद्धालु यूपी: वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में हर्षोल्लास के साथ मनाई जा रही होली माघ पूर्णिमा स्नान के लिए भारी संख्या में प्रयागराज पहुंच रहे श्रद्धालु कुंभ का आज तीसरा और आखिरी शाही स्नान, 2 करोड़ श्रद्धालुओं के जुटने का अनुमान कुंभ के तीसरे शाही स्नान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए
गुरु गद्दी टाहली वाले (कटासराज) बिलासपुर जिला यमुनानगर के गद्दीनशीन महंत श्री गुलशन गिरी जी महाराज जी को अंतराष्ट्रीय जूना अखाड़ा का महामंत्री नियुक्त किया गया
प्रयागराजः कुंभ का दूसरा शाही स्नान आज, श्रद्धालु लगा रहे आस्था की डुबकी मौनी अमावस्या आज, गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़ कुंभः आज 10:30 बजे VHP और संतों का हवन-पूजन, मंदिर निर्माण का लेंगे संकल्प कुंभ: पौष पूर्णिमा के मौके पर श्रद्धालुओं ने त्रिवेणी संगम में लगाई डुबकी