अगले 72 घंटे के लिए पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में बस सेवाएं पूरी तरह ठप करने के निर्देशरिजर्व बैंक कल करेगा 200 रुपये के नोट जारीक्यों न हरियाणा के DGP को बर्खास्त किया जाए: हाईकोर्टअश्विनी लोहानी ने रेलवे बोर्ड के नए चेयरमैन का पदभार संभाला पंजाब और हरियाणा में इंटरनेट सेवा पर रोक लगी हरियाणा सरकार ने पुलिस मुख्यालय, सेक्टर-6, पंचकुला में राज्य स्तरीय दंगा नियंत्रण केंद्र की स्थापना की:विनोद कुमार पुलिस अधीक्षक जम्मू-कश्मीर: त्राल में स्कूल बस दुर्घटनाग्रस्त, कई छात्र घायल पंजाब रोडवेज ने हरियाणा जाने वाली अपनी सभी बसों के रूट रद्द किए हरियाणा: हिसार कोर्ट में आज सुनाया जाएगा संत रामपाल पर फैसला हरियाणा-पंजाब में हाई अलर्ट, BSF और CRPF तैनात
उत्तर प्रदेश समाचार

क्यूं फूटा मुख्यमंत्री योगी का गुस्सा राज महाजन के दबंग IAS दोस्त पर

April 19, 2017 12:54 PM
क्यूं फूटा मुख्यमंत्री योगी का गुस्सा राज महाजन के दबंग IAS दोस्त पर

नई दिल्ली: प्रसिद्ध म्युज़िक कंपनी मोक्ष म्युज़िक और संगीतकार राज महाजन के करीबी माने जाने वाले IAS अधिकारी डॉ. हरीओम से ऐसी क्या गलती हुई जिसका हर्जाना उन्हें आज दस साल बाद भरना पड़ रहा है? आज के हालातों में गाया हुआ उनका अपना ही गाना ‘सोचा न था, जाना न था, यूँ हीं ऐसे चलेगी ज़िन्दगी’ उन पर एक दम सूट कर रहा है.

गौरतलब है आज से 10 वर्ष पहले आईएस अधिकारी डॉ. हरीओम ने सांसद ‘योगी आदित्यनाथ को भेजा था जेल. बस... यही थी उनकी गलती जिसे आज वह काट रहे हैं. उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार बनते ही प्रशासनिक अधिकारियों के ट्रान्सफर शुरु हो गए. प्रदेश में कुल 20 बड़े अधिकारियों के तबादले किए गए हैं जिनमें से 9 को वेटिंग लिस्ट में रखा गया है. इसी वेटिंग लिस्ट में से एक अधिकारी डॉ. हरिओम भी हैं, जिन्होंने 10 साल पहले वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

डॉ. हरिओम ने अभी हाल ही में संगीतकार राज महाजन के निर्देशन में ‘मोरा पिया’ नामक गाना भी गाया है जिसकी विडियो-शूटिंग भी संपन्न हो चुकी है और गाने की मिक्सिंग का काम चल रहा है. म्युज़िक विडियो में डॉ. हरिओम और राज महाजन साथ में सुर मिलाते नज़र आयेंगे. गाने की शूटिंग मोक्ष म्युज़िक कंपनी के दिल्ली स्थित स्टूडियो में ही हुई है.

क्या था योगी आदित्यनाथ और डॉ. हरिओम का पूरा मामला

असल में, यह घटना 26 जनवरी 2007 की है, जब गोरखपुर में सांप्रदायिक तनाव जोरों पर था और तत्कालीन सांसद योगी जी ने गोरखपुर में धरने का ऐलान कर दिया था. पूरे शहर में कर्फ्यू लगे होने की वजह से डीएम डॉ. हरिओम ने उन्हें गोरखपुर में घुसने से पहले ही रोक दिया था. लेकिन योगी जी अपनी जिद पर अड़ गए. जिसके बाद प्रशासन ने अंततः उन्हें गिरफ्तार करने का निर्णय किया. इस बारे में खुद तत्कालीन डीएम डॉ. हरिओम ने बताया था कि वह सांसद योगी को गिरफ्तार नहीं करना चाहते थे. लेकिन सांसद आदित्यनाथ ने ही उन पर दवाब बनाया था कि उन्हें कारागार में ही रखा जाए. हालांकि हरिओम योगी जी को सर्किट हाउस में ही रखना चाहते थे जहां आमतौर पर सांसदों या विधायकों को गिरफ्तारी के बाद रखा जाता है. लेकिन योगी जी की ज़िद्द के आगे वह बेबस हो गये. इसके बाद गोरखपुर की जिला जेल में योगी जी 11 दिन तक बंद रहे. जेल से निकलने के बाद जब सांसद आदित्यनाथ पहली बार संसद पहुंचे तो वह अपनी गिरफ्तारी की बात बताते-बताते रोने लगे. योगी आदित्यनाथ का संसद में दिया गया ये भाषण काफी चर्चा में रहा. इसी भाषण में योगी ने सवाल उठाया था कि कैसे किसी सांसद को 11 दिन तक जेल में रखा जा सकता है जबकि कानूनी तौर पर किसी सांसद को 24 घंटे से ज्यादा नॉन क्रिमिनल ऑफेंस में कारागार में नहीं रखा जा सकता. गिरफ्तारी के चौबीस घंटे के बाद ही डॉ. हरिओम को सरकार ने सस्पेंड कर दिया और उनकी जगह चार्ज संभालने के लिए उस समय सीतापुर के डीएम राकेश गोयल को रातों-रात हेलिकॉप्टर से गोरखपुर भेजा गया. इससे भी दिलचस्प यह है कि डॉ. हरिओम को सस्पेंशन के एक हफ्ते के भीतर ही वापस बहाल कर दिया गया.

उत्तर प्रदेश के दबंग आईएएस हैं डॉ. हरिओम

वेटिंग लिस्ट में डाले जाने से पहले तक वो संस्कृति विभाग के सचिव के तौर पर कार्यरत थे. डॉ. हरिओम के प्रशासनिक अनुभव का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वो उत्तर प्रदेश के 11 जिलों (जैसे कानपुर, गोरखपुर, मुरादाबाद, इलाहाबाद, सहारनपुर आदि) के डीएम रह चुके हैं. कारण चाहे जो भी रही हो लेकिन तब का सांसद आज का मुख्यमंत्री है. मुख्यमंत्री योगी जी के अगले आर्डर के आने तक आला अधिकारियों को इंतज़ार ही करना पड़ेगा.
कौन है राज महाजन और डॉ. हरिओम

राज महाजन भारतीय शैली के प्रसिद्ध संगीतकार, गायक, अभिनेता और मोक्ष म्युज़िक कंपनी के करता-धर्ता हैं और हाल ही में बिग-बॉस 10 के संभावित प्रतियोगी के तौर पर अच्छी खासी सुर्खियाँ कमा चुके हैं. आपको बता दें कि हरी ओम और संगीतकार राज महाजन काफी करीबी हैं. जब भी यह दोनों एक साथ होते हैं तो बेहतरीन धुनों से माहौल बंध जाता है. दोनों ही संगीत से प्यार करते हैं. यूट्यूब पर उनके गाये गानों की एक लंबी फेहरिस्त है, जिन्हें मोक्ष म्युज़िक ने विश्वस्तर पर रिलीज़ किया है. ‘सोचा न था ज़िन्दगी, कैसी हैं ये मजबूरियाँ, यारा वे, मुस्कुराती हुई सुबह उनके कुछ बेहतरीन गानों में से एक हैं.

दोनों में एक ख़ास बात और है जहाँ राज महाजन का विवादों से नाता है, वहीँ हरिओम भी योगी काण्ड में फंस गए हैं. दोनों ही जमकर सुर्खियाँ बटोरते हैं. अब देखने वाली बात रहेगी कि सुर्ख़ियों से रिश्ता रखने वाले इन दोनों दोस्तों की जोड़ी राज महाजन-हरिओम का आने वाला नया गाना ‘मोरा पिया’ क्या कमाल करता है.

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और उत्तर प्रदेश समाचार ख़बरें
यूपी: सीएम योगी ने फैजाबाद में बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री वितरित की कैफियत एक्सप्रेस हादसा: जीआरपी इटावा के पास डंपर ड्राइवर और राज कन्सट्रक्शन कंपनी के कॉन्ट्रेक्टर आलोक दुबे के खिलाफ एफआईआर दर्ज हालिया हादसों से मैं बुरी तरह आहत हूं, कई लोग घायल हुए और कई को अपनी जान गंवानी पड़ी: प्रभु औरेया ट्रेन हादसे पर रेलवे का बयान, किसी यात्री को गंभीर चोट नहीं लखनऊ: सब इंस्पेक्टर पर्चा लीक मामले में यूपी एसटीएफ ने किया खुलासा, 7 गिरफ्तार कैफियत दुर्घटना: कानपुर-टूंडला सेक्शन की सभी पैसेंजर ट्रेनें कैंसल, 7 ट्रेनों का रूट बदला यूपी में दूसरा रेल हादसा, डंपर से टकराई कैफियत एक्सप्रेस, 21 घायल यूपी: आगरा में गाय और सांड पर फेंका गया तेजाब, FIR दर्ज Yogi to Spend Rs 16 cr on Loan Waiver Events रायपुर के अस्पताल में 3 बच्चों की मौत के मामले में एक कर्मचारी सस्पेंड
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0034812865
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech