हैदराबाद: तेलगू अभिनेता रवि तेजा के भाई भरत राज की सड़क हादसे में मौत छत्तीसगढ़: महासमुंद में कर्ज की वजह से किसान की आत्महत्याहॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल में कनाडा ने भारत को 3-2 से हरायाराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद लखनऊ पहुंचेब्रिटेन: न्यूकास्टल शहर में बेकाबू कार ने राहगीरों को रौंदा, 6 लोगों की मौतक्रिकेट: भारत और वेस्टइंडीज में दूसरा वनडे आज शाम 6:30 बजे सेचीन में योग कार्यक्रम में 10,000 लोगों ने हिस्सा लियाहरियाणा में स्वर्ण जंयती सांझी साईकिल योजना को अब गांव स्तर पर भी लागू किया जाएगाहरियाणा सरकार ने आज तुरंत प्रभाव से तीन एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी कियेगुजरात के वलसाड में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात
पंजाब समाचार

PUNJAB-रोडवेज को नौ वर्षो में लगी 370 करोड़ की चपत

April 19, 2017 06:07 AM

COURSTEY DAINIK JAGRAN APRIL19

अमीरों को फायदा, गरीबों की जेब काटी 1पंजाब सरकार ने 16 दिसंबर 2016 को नया नोटीफिकेशन जारी कर ऑर्डिनरी बसों का रोड टैक्स 2.75 रुपये प्रति किलोमीटर, एसी बसों का 1.62 रुपये प्रति किलोमीटर निर्धारित कर दिया। रोडवेज मुलाजिमों की साझा एक्शन कमेटी के कन्वीनर सुरिंदर सिंह का आरोप है कि बादल सरकार ने निजी फायदे के लिए रोडवेज को खत्म करने का काम किया है। पूर्व ट्रांसपोर्ट डायरेक्टर मनदीप सिंह तो सिर्फ मोहरे हैं। कैप्टन सरकार को इस पूरे घोटाले की जांच सीबीआइ से करानी चाहिए, ताकि अरबों के इस घोटाले के असली सूत्रधारों को पकड़ा जा सके।1
बदली नीति से निजी बस ऑपरेटरों को फायदा नहीं1सरकार फायदे के आधार पर काम नहीं करती। उसकी कोशिश जनता को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं देने की होती है, बदली नीति से निजी बस ऑपरेटरों को फायदा नहीं मिला वे भी रो रहे हैं।1-अजीत सिंह कोहाड़, पूर्व ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर11हम तो सरकार के आदेश पर काम करते हैं, नीतियां तो सरकार बनाती है। रोड टैक्स कम करने पर रोडवेज की बसें चलतीं, तो एसी बसों का लाभ रोडवेज को मिलता, लेकिन निजी ऑपरेटरों ने एसी बसें लाकर वो लाभ खुद ले लिया।1-हरचरण सिंह, सुपरिंटेंडेंट पॉलिसी, पंजाब रोडवेज, चंडीगढ़
अधिकारियों की मिलीभगत से हळ्आ ये सारा काम : मास्टर मोहन लाल1तत्कालीन परिवहन मंत्री मास्टर मोहनलाल का कहना है कि नई नीति रोडवेज को उस समय 262 करोड़ रुपये के घाटे से उबारने के लिए बनाई गई थी। इसका फायदा सरकारी बसों को मिलना था। मैंने घाटा कम करके 50 करोड़ रुपये तक ला दिया था, लेकिन रोडवेज के अधिकारियों ने मिलकर इसका फायदा एक परिवार को पहुंचाया। इसमें किसी भी स्तर पर जांच करा ली जाए, वह इसके लिए तैयार हैं। गड़बड़ी उन्होंने या भाजपा ने नहीं की है।1
2007 में था 1800 बसों का फ्लीट12007 में रोडवेज बसों के बेड़े में पीआरटीसी को शामिल कर 1800 बसों का फ्लीट था। निजी बसों का परमिट लगभग 4000 हजार बसों का था, लेकिन सड़क पर लगभग 6000 बसें दौड़ रही थीं। एसी बस उस समय सिर्फ चंडीगढ़ डिपो में थीं। वर्तमान में रोडवेज बसों का आंकड़ा लगभग वही है, निजी आपरेटरों की एसी बसें 500 से ज्यादा चल रही हैं। 73 इंटीगेट्रिड कोच हैं, वह भी निजी बसों की हैं। निजी बसों की संख्या लगभग पांच हजार के करीब पहुंच गई है, जबकि बिना परमिट वाली बसों का आंकड़ा बढ़ा है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब समाचार ख़बरें
PUNJAB : Fastway evaded Rs 684-cr tax: Sidhu पंजाब सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को किया बाईपास, विधानसभा में एक संशोधित बिल हुआ पास, हाइवे के किनारे होटल, क्लब और रेस्तरां को शराब सर्व करने की अनुमति दी गई NEET 2017 में पंजाब के नवदीप सिंह ने किया टॉप पंजाब विधानसभा में उछलीं पगड़ियां निंदनीय महिला समेत दो विधायकों की हालत बिगड़ी, स्पीकर ने पूरा विपक्ष किया नेम दिनदहाड़े मॉल के बाहर चली गोलियां, जान बचाने दौड़े लोग पंजाब विधानसभा में हंगामा, झड़प के दौरान AAP के 4 विधायक बेहोश Some hits and some misses for AAP in unfamiliar role of Opposition in Punjab पंजाब: बरनाला में एक गांव की फैक्ट्री में ब्लास्ट, तीन मजदूरों की मौत पंजाबः स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने और कर्जमाफी की मांग को लेकर लुधियाना में एनएच-1 पर प्रदर्शन कर रहे किसान PUNJAB : ‘I am confident we will be revenue-surplus in 4 years’
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0033354696
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech