चंडीगढ़ समाचार

PUNJAB UNIVERSITY-उपराष्ट्रपति ने पूछा, स्टूडेंट्स पर कैसे दर्ज हुआ देशद्रोह का केस

April 14, 2017 06:46 AM

COURSTY DAINIK JAGRAN APRIL14
उपराष्ट्रपति ने पूछा, स्टूडेंट्स पर कैसे दर्ज हुआ देशद्रोह का केस

साजन शर्मा ’ चंडीगढ़ 1पीयू के घटनाक्रम पर देश के उपराष्ट्रपति व यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. हामिद अंसारी ने काफी कड़ा रवैया अपनाया है। उन्होंने पीयू प्रशासन से पूछा है कि ऐसी कौन सी परिस्थितियां बनी कि पुलिस ने पहले तो स्टूडेंट्स पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर लिया और थोड़ी देर बाद देशद्रोह की धारा को हटा भी दिया? 12003ऐसे हालात क्यों और किस वजह से उपजे कि स्टूडेंट्स पर लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले तक छोड़ने पड़े? फीस बढ़ोतरी के मुद्दे पर स्टूडेंट्स से लगातार बातचीत जारी क्यों नहीं रखी गई? वीसी प्रो. अरुण कुमार ग्रोवर ने रजिस्ट्रार से रिपोर्ट तैयार करा कर संपूर्ण ब्यौरा चांसलर के पास भेज दिया है। सूत्रों के अनुसार चांसलर आफिस वीसी को तलब कर सकता है। उनके लिए कुछ अप्रिय स्थितियां भी पैदा हो सकती हैं।1 केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने भी पूरे मामले में वीसी से जवाब तलब किया है। वीसी की सोमवार को नई दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान मंत्री से मुलाकात होगी। 1एबीवीपी ने जावड़ेकर को भेजी रिपोर्ट, वीसी पर लगाए संगीन आरोप : दूसरी तरफ, एबीवीपी ने वीसी और पीयू के अधिकारियों के कामकाज के तरीके पर सवाल उठाते हुए एक रिपोर्ट केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री को भेजी है। इसमें एबीवीपी ने वीसी को कार्यकाल पूरे होने से पहले ही हटाने की सिफारिश की है। उनका आरोप है कि प्रो. ग्रोवर का स्टूडेंट्स के प्रति रवैया सही नहीं है। एबीवीपी नेता हरमनजोत सिंह गिल, कृष्ण श्योराण और आशीष राणा ने कहा कि वीसी और स्टूडेंट्स के बीच जबरदस्त कम्यूनिकेशन गैप है। मंगलवार को भी वीसी आफिस के पास पुलिस और स्टूडेंट्स के बीच जो झड़प हुई वह इसी गैप का नतीजा था। अगर अथॉरिटी सही समय पर स्टूडेंट्स की बात सुनती और उन्हें आश्वासन देती तो ऐसी घटना परिसर में हो ही नहीं सकती थी।साजन शर्मा ’ चंडीगढ़ 1पीयू के घटनाक्रम पर देश के उपराष्ट्रपति व यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. हामिद अंसारी ने काफी कड़ा रवैया अपनाया है। उन्होंने पीयू प्रशासन से पूछा है कि ऐसी कौन सी परिस्थितियां बनी कि पुलिस ने पहले तो स्टूडेंट्स पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर लिया और थोड़ी देर बाद देशद्रोह की धारा को हटा भी दिया? 12003ऐसे हालात क्यों और किस वजह से उपजे कि स्टूडेंट्स पर लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले तक छोड़ने पड़े? फीस बढ़ोतरी के मुद्दे पर स्टूडेंट्स से लगातार बातचीत जारी क्यों नहीं रखी गई? वीसी प्रो. अरुण कुमार ग्रोवर ने रजिस्ट्रार से रिपोर्ट तैयार करा कर संपूर्ण ब्यौरा चांसलर के पास भेज दिया है। सूत्रों के अनुसार चांसलर आफिस वीसी को तलब कर सकता है। उनके लिए कुछ अप्रिय स्थितियां भी पैदा हो सकती हैं।1 केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने भी पूरे मामले में वीसी से जवाब तलब किया है। वीसी की सोमवार को नई दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान मंत्री से मुलाकात होगी। 1एबीवीपी ने जावड़ेकर को भेजी रिपोर्ट, वीसी पर लगाए संगीन आरोप : दूसरी तरफ, एबीवीपी ने वीसी और पीयू के अधिकारियों के कामकाज के तरीके पर सवाल उठाते हुए एक रिपोर्ट केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री को भेजी है। इसमें एबीवीपी ने वीसी को कार्यकाल पूरे होने से पहले ही हटाने की सिफारिश की है। उनका आरोप है कि प्रो. ग्रोवर का स्टूडेंट्स के प्रति रवैया सही नहीं है। एबीवीपी नेता हरमनजोत सिंह गिल, कृष्ण श्योराण और आशीष राणा ने कहा कि वीसी और स्टूडेंट्स के बीच जबरदस्त कम्यूनिकेशन गैप है। मंगलवार को भी वीसी आफिस के पास पुलिस और स्टूडेंट्स के बीच जो झड़प हुई वह इसी गैप का नतीजा था। अगर अथॉरिटी सही समय पर स्टूडेंट्स की बात सुनती और उन्हें आश्वासन देती तो ऐसी घटना परिसर में हो ही नहीं सकती थी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ समाचार ख़बरें
पंचतत्वों से बने शरीर को बचाना है तो पंचतत्वों को पहले बचाना होगा:प्रो0 कप्तान सिंह सोलंकी ने Governance reforms: Uproar over V­C’s affidavit in high court 5 temple theft cases cracked, 3 held हरियाणा में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के बाद अब बेटी खेलाओ अभियान की शुरूआत: कैप्टन अभिमन्यु सलाहकार से सलाहकार तक: ट्रिब्यून ग्रुप से हरीश खरे ने दिया इस्तीफ़ा, संजय बारू को मिल सकती है जिम्मेदारी पंजाब के नेता यूपी में पद की उम्मीद न करें: चंडीगढ़ में बीएसपी अध्यक्ष मायावती पंजाब-हरियाणा में दलितों के त्याग को गंभीरता से नहीं लिया गया: मायावती संसद में मुझे दलित हित की बात नहीं रखने दी: मायावती देश में RSS पूंजीवादी एजेंडे को लागू करने की कोशिश: मायावती बीजेपी सरकार में दलितों का शोषण जारी है: मायावती
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0041761720
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech