राष्ट्रीय

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, संसद की मंजूरी के बिना कोई भी नई जाती ओबीसी में शामिल नहीं होगी

March 24, 2017 02:02 AM

नई दिल्ली : मोदी सरकार ने देश के अन्य पिछड़ा वर्ग में शामिल होकर आरक्षण की मांग करने वालों को करारा झटका दिया है। गुरुवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यह फैसला किया है कि अब संसद की मंजूरी के बिना किसी भी नई जाति को पिछड़ा वर्ग में शामिल नहीं किया जा सकेगा। इसके साथ ही मंत्रिमंडल ने गुरुवार को राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के स्थान पर एक नये आयोग के गठन की मंजूरी भी प्रदान किया है। इतना ही नहीं नहीं, सरकार पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के लिए संविधान में संशोधन भी करेगी। अभी तक पिछड़ा वर्ग में नयी जातियों को शामिल करने का फैसला सरकार के स्तर पर कर लिया जाता रहा है। इस बीच अटकलें यह भी लगायी जा रही है कि सरकार ने इस तरह का बड़ा फैसला जाट आरक्षण की मांग करने वालों को हताश करने के लिए किया है। बताया यह भी जा रहा है कि सरकार की ओर यह कदम मुख्य दो वजहों के चलते उठाया गया है। पहली जाट आरक्षण और दूसरी वजह यह कि जाट नेताओं और हरियाणा सरकार के बीच हुई बातचीत में पिछड़ा वर्ग आयोग का नये सिरे से गठन करने की है। अटकलें लगायी जा रही हैं कि सरकार इस नये आयोग गठन कर उसे संवैधानिक दर्जा देगी, जबकि पिछले कानून को संसद से कानून पारित करके बनाया गया था। मौजूदा राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग वैधानिक संस्था है, जिसके तहत अबतक सरकार के स्तर पर ही ऐसे फैसले किये जाते रहे हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
Visitor's Counter :   0035738048
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech