HARYANA-Target achieved, govt dept stops purchasing bajraREDEFINING TERRITORIAL JURISDICTION OF VARSITIES Stay on govt order creates stir among private collegesHSIIDC Chief Coordinator’s appointment questionedPUNJAB-Employees on unsanctioned posts may face salary freezeTRIBUNE EDITORIAL-Rajasthan’s questionable law Inoculating from public scrutinyब्रिटिश सरकार ने यूएन में कहा-'प्रेगनेंट वुमन' नहीं, 'प्रेगनेंट पीपुल' होना चाहिए कंपनी में शेयर खरीदने के नाम पर अनुयायियों को ठगता था बाबा एचएसआईआईडीसी-कंपनी के बीच 7 फीसदी भागीदारी पर रार, प्रदेश में 10 अरब डॉलर का प्रोजेक्ट अटका जेल डिपार्टमेंट में करोड़ों की हेराफेरी, मामला हाईकोर्ट में कैदियों की मौज: हरियाणा की जेलों में बंद कैदी और हवालाती चाय-नमकीन, कोल्ड ड्रिंक और ब्रांडेड जूते-चप्पल पर अपनी जेब से खर्च कर देते हैं 11 करोड़
न्यायालयों से

SYLका निर्माण करना ही होगा,पंजाब सरकार को सुप्रीम कोर्ट का तगड़ा झटका

February 22, 2017 05:24 PM

चंडीगढ़ :सुप्रीम कोर्ट में सतलुज यमुना लिंक मामले में बुधवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया है कि लिंक नहर का निर्माण करना ही होगा। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि लिंक नहर में कितना पानी आएगा, यह बाद में तय किया जाएगा। देश के शीर्ष न्यायालय ने कहा कि पंजाब और हरियाणा समझौता कर नहर बनाएंगे तो बेहतर होगा क्योंकि कोर्ट इस मामले में पहले ही दो आदेश जारी कर चुका है। इसके अलावा हरियाणा और पंजाब को कानून व्यवस्था बनाए रखने के आदेश भी दिए गए हैं। कोर्ट ने कहा कि सतलुज यमुना लिंक को लेकर यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश बरकरार रहेंगे। राज्यों में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी दोनों राज्यों पर है। सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल दोनों राज्यों के बीच कानून-व्यवस्था बनाए रखने में केंद्र सरकार को आदेश देने से इनकार किया है। कोर्ट ने कहा कि केंद्र इस मामले में रिजर्व फ़ोर्स है और जरूरत पडऩे पर आगे इस्तेमाल करेंगे। कोर्ट ने इस बात पर नाराजगी भी जाहिर की कि देश की सबसे बड़ी अदालत इस मामले में आदेश जारी कर चुकी है लेकिन इस पर अमल नहीं किया जा रहा है। दरअसल पंजाब सरकार की ओर दायर की गई एक याचिका में सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई थी कि हरियाणा से एक लाख लोग सीमा पारकर पंजाब में घुसकर लिंक नहर की जबरन खुदाई करने जा रहे हैं। ये लोग हथियारों से भी लैस हैं। उधर, सतलुज-यमुना लिंक नहर मामले पर सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक सतलुज-यमुना नहर नहीं बनाएगी। पंजाब सरकार ने कहा कि पंजाब टर्मिनेशन आफ वाटर एग्रीमेंट एक्ट 2004 के कानून के मुताबिक वह किसी दूसरे राज्य को पानी देने के लिए बाध्य नहीं है। पंजाब ने कहा कि राष्ट्रपति के रेफरेंस पर दिया गया सुप्रीम कोर्ट का फैसला महज एक राय है और इस राय के बावजूद 2004 का वो कानून प्रभावी है। पंजाब सरकार ने कहा कि हरियाणा सरकार ने 2004 के उस कानून को विशेष रूप से चुनौती नहीं दी है लिहाजा वो कानून प्रभावी है। पंजाब सरकार ने कहा कि जब तक 2004 कानून कानून प्रभावी है तब तक वह किसानों से जमीन वापिस नहीं ले सकता जो उन्हें लौटा दी गई थी ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और न्यायालयों से ख़बरें
केरल हाई कोर्ट ने दोहराया, 'शिक्षण परिसरों में राजनीति को न मिले अनुमति MSRTC हड़ताल मामला: बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा कि यह मामला हमारे न्याय क्षेत्र में नहीं पाकिस्तान: लाहौर कोर्ट ने हाफिज सईद की नजरबंदी 30 दिन बढ़ाई टेरर फंडिंग केस: पटियाला हाउस कोर्ट ने 7 कश्मीरी अलगाववादियों और एक बिजनस मैन समेत 10 लोगों की न्यायिक हिरासत 30 दिनों तक बढ़ाई। Allahabad High Court demolishes CBI: Witness was tutored and evidence tampered विकास बराला और आशीष के ख़िलाफ़ चंडीगढ़ की अदालत में दोष तय हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष पर वर्णिका कुंडू मामले में आरोप तय रोहिंग्या मामले पर SC ने कहा अगली सुनवाई तक किसी को देश से बाहर न भेजा जाए रोहिंग्या केस: सुप्रीम कोर्ट ने सभी पार्टियों को चर्चा के लिए और समय दिया। अलगी सुनवाई 21 नवंबर को होगी पंजाब व हरियाणा में पटाखों पर आंशिक पाबंदी, हाई कोर्ट ने तय की समय सीमा
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0036495028
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech