हरियाणा सरकार ने प्रदेश के लोगों को बेहतरीन चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से कई अहम निर्णय लिए उत्कृष्टï खिलाडिय़ों को वर्ग-एक और दो के पदों के लिए भी 3 प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा:विजधनखड़ ने कहा सरकार का हर कदम किसानों के हित में ही उठेगाखट्टर सरकार ने बीएस संधू को हरियाणा पुलिस का नया महानिदेशक नियुक्त किया, पुलिस महकमे में भारी फेरबदल के चलते केपी सिंह डीजीपी जेल और चार अन्य आईपीएस को किया इधर से उधरअरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश, कई स्थानों पर भूस्खलनराजस्थान के उदयपुर में रहने वाले कल्पित वीरवल ने जेईई मेन एग्जाम में टॉप कियाकुपवाड़ा हमले पर सेना का बयान: दो आतंकवादी मार गिराएकुपवाड़ा हमला: पुलिस के मुताबिक मुठभेड़ में गोली लगने से घायल हुए नागरिक ने दम तोड़ाघर पहुंचा विनोद खन्ना का पार्थ‍िव शरीर, थोड़ी देर में होगा अंतिम संस्कार10 साल पुराने डीजल वाहन बैन करने पर NGT ने फैसला सुरक्षित रखा
न्यायालयों से

SYLका निर्माण करना ही होगा,पंजाब सरकार को सुप्रीम कोर्ट का तगड़ा झटका

February 22, 2017 05:24 PM

चंडीगढ़ :सुप्रीम कोर्ट में सतलुज यमुना लिंक मामले में बुधवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया है कि लिंक नहर का निर्माण करना ही होगा। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि लिंक नहर में कितना पानी आएगा, यह बाद में तय किया जाएगा। देश के शीर्ष न्यायालय ने कहा कि पंजाब और हरियाणा समझौता कर नहर बनाएंगे तो बेहतर होगा क्योंकि कोर्ट इस मामले में पहले ही दो आदेश जारी कर चुका है। इसके अलावा हरियाणा और पंजाब को कानून व्यवस्था बनाए रखने के आदेश भी दिए गए हैं। कोर्ट ने कहा कि सतलुज यमुना लिंक को लेकर यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश बरकरार रहेंगे। राज्यों में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी दोनों राज्यों पर है। सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल दोनों राज्यों के बीच कानून-व्यवस्था बनाए रखने में केंद्र सरकार को आदेश देने से इनकार किया है। कोर्ट ने कहा कि केंद्र इस मामले में रिजर्व फ़ोर्स है और जरूरत पडऩे पर आगे इस्तेमाल करेंगे। कोर्ट ने इस बात पर नाराजगी भी जाहिर की कि देश की सबसे बड़ी अदालत इस मामले में आदेश जारी कर चुकी है लेकिन इस पर अमल नहीं किया जा रहा है। दरअसल पंजाब सरकार की ओर दायर की गई एक याचिका में सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई थी कि हरियाणा से एक लाख लोग सीमा पारकर पंजाब में घुसकर लिंक नहर की जबरन खुदाई करने जा रहे हैं। ये लोग हथियारों से भी लैस हैं। उधर, सतलुज-यमुना लिंक नहर मामले पर सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक सतलुज-यमुना नहर नहीं बनाएगी। पंजाब सरकार ने कहा कि पंजाब टर्मिनेशन आफ वाटर एग्रीमेंट एक्ट 2004 के कानून के मुताबिक वह किसी दूसरे राज्य को पानी देने के लिए बाध्य नहीं है। पंजाब ने कहा कि राष्ट्रपति के रेफरेंस पर दिया गया सुप्रीम कोर्ट का फैसला महज एक राय है और इस राय के बावजूद 2004 का वो कानून प्रभावी है। पंजाब सरकार ने कहा कि हरियाणा सरकार ने 2004 के उस कानून को विशेष रूप से चुनौती नहीं दी है लिहाजा वो कानून प्रभावी है। पंजाब सरकार ने कहा कि जब तक 2004 कानून कानून प्रभावी है तब तक वह किसानों से जमीन वापिस नहीं ले सकता जो उन्हें लौटा दी गई थी ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और न्यायालयों से ख़बरें
SC ने सुब्रत रॉय को दी तिहाड़ जेल भेजने की चेतावनी सुप्रीम कोर्ट ने एमबी वैली की नीलामी 19 जून तक टाली इलाहाबाद: 26 मई से 10 जून यूनिवर्सिटी हॉस्टल की पुताई, वायरिंग,वॉशरूम और मेस की मरम्मत का काम पूरा कराने का निर्देश दिया चुनाव आयोग को झूठी सूचना देने के मामले में कोर्ट ने आप पार्टी के विधायक सोमदत्त को समन भेजा EVM मामला: उत्तराखंड HC ने EC, राज्य चुनाव आयोग के खिलाफ नोटिस जारी किया HC breather for pvt bus operators सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से गैर सरकारी संगठनों और उन्हें दिए जाने वाले धन के नियमन के लिए कानून बनाने पर विचार करने को कहा। मंगलम टीवी हनी ट्रैप केस: केरल हाई कोर्ट ने चैनल के CEO अजित कुमार और रिपोर्टर आर. जयचंद्रन को सशर्त जमानत दी AIADMK चुनाव चिह्न मामले में तीस हजारी कोर्ट ने बिचौलिए सुकेश चंद्रशेखर की पुलिस हिरासत 28 अप्रैल तक बढ़ाई फर्जी पासपोर्ट मामले में स्पेशल कोर्ट ने छोटा राजन और अन्य को सात साल की सजा सुनाई
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0032074777
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech