हैदराबाद: तेलगू अभिनेता रवि तेजा के भाई भरत राज की सड़क हादसे में मौत छत्तीसगढ़: महासमुंद में कर्ज की वजह से किसान की आत्महत्याहॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल में कनाडा ने भारत को 3-2 से हरायाराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद लखनऊ पहुंचेब्रिटेन: न्यूकास्टल शहर में बेकाबू कार ने राहगीरों को रौंदा, 6 लोगों की मौतक्रिकेट: भारत और वेस्टइंडीज में दूसरा वनडे आज शाम 6:30 बजे सेचीन में योग कार्यक्रम में 10,000 लोगों ने हिस्सा लियाहरियाणा में स्वर्ण जंयती सांझी साईकिल योजना को अब गांव स्तर पर भी लागू किया जाएगाहरियाणा सरकार ने आज तुरंत प्रभाव से तीन एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी कियेगुजरात के वलसाड में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात
न्यायालयों से

SYLका निर्माण करना ही होगा,पंजाब सरकार को सुप्रीम कोर्ट का तगड़ा झटका

February 22, 2017 05:24 PM

चंडीगढ़ :सुप्रीम कोर्ट में सतलुज यमुना लिंक मामले में बुधवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया है कि लिंक नहर का निर्माण करना ही होगा। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि लिंक नहर में कितना पानी आएगा, यह बाद में तय किया जाएगा। देश के शीर्ष न्यायालय ने कहा कि पंजाब और हरियाणा समझौता कर नहर बनाएंगे तो बेहतर होगा क्योंकि कोर्ट इस मामले में पहले ही दो आदेश जारी कर चुका है। इसके अलावा हरियाणा और पंजाब को कानून व्यवस्था बनाए रखने के आदेश भी दिए गए हैं। कोर्ट ने कहा कि सतलुज यमुना लिंक को लेकर यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश बरकरार रहेंगे। राज्यों में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी दोनों राज्यों पर है। सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल दोनों राज्यों के बीच कानून-व्यवस्था बनाए रखने में केंद्र सरकार को आदेश देने से इनकार किया है। कोर्ट ने कहा कि केंद्र इस मामले में रिजर्व फ़ोर्स है और जरूरत पडऩे पर आगे इस्तेमाल करेंगे। कोर्ट ने इस बात पर नाराजगी भी जाहिर की कि देश की सबसे बड़ी अदालत इस मामले में आदेश जारी कर चुकी है लेकिन इस पर अमल नहीं किया जा रहा है। दरअसल पंजाब सरकार की ओर दायर की गई एक याचिका में सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई थी कि हरियाणा से एक लाख लोग सीमा पारकर पंजाब में घुसकर लिंक नहर की जबरन खुदाई करने जा रहे हैं। ये लोग हथियारों से भी लैस हैं। उधर, सतलुज-यमुना लिंक नहर मामले पर सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक सतलुज-यमुना नहर नहीं बनाएगी। पंजाब सरकार ने कहा कि पंजाब टर्मिनेशन आफ वाटर एग्रीमेंट एक्ट 2004 के कानून के मुताबिक वह किसी दूसरे राज्य को पानी देने के लिए बाध्य नहीं है। पंजाब ने कहा कि राष्ट्रपति के रेफरेंस पर दिया गया सुप्रीम कोर्ट का फैसला महज एक राय है और इस राय के बावजूद 2004 का वो कानून प्रभावी है। पंजाब सरकार ने कहा कि हरियाणा सरकार ने 2004 के उस कानून को विशेष रूप से चुनौती नहीं दी है लिहाजा वो कानून प्रभावी है। पंजाब सरकार ने कहा कि जब तक 2004 कानून कानून प्रभावी है तब तक वह किसानों से जमीन वापिस नहीं ले सकता जो उन्हें लौटा दी गई थी ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और न्यायालयों से ख़बरें
स्पेशल टाडा कोर्ट में 1993 मुंबई बम धमाके मामले की सुनवाई 27 जून तक स्थगित अधिकारी कानून को ताक पर रख अपने अधीनस्थ पुलिसकर्मियों के खिलाफ आदेश पारित कर रहे हैं: इलाहाबाद हाई कोर्ट 23 हफ्ते के बच्चे को गिराने की अनुमति मांगने वाली कलकत्ता की महिला की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने 7 सदस्यों का मेडिकल बोर्ड बनाने का आदेश दिया। No cars for U'khand till schools get chair बिहार के शेखपुरा जिला की एक अदालत ने JDU के पूर्व नेता की हत्या के मामले में 6 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। कर्नाटक विधानसभा स्पीकर के बी कोलीवाड ने विधायकों के खिलाफ अपमानजनक लेख लिखने पर दो पत्रकारों को सुनाई 1 साल की जेल की सजा और 10,000 रुपए का जुर्माना। अपनी जिम्मेदारी निभाने में विफल हुई एमसीडी: हाई कोर्ट सुप्रीम कोर्ट मे जस्टिस कर्णन को अंतरिम जमानत देने से किया इनकार In hiding for a month, judge Karnan held in Coimbatore Man spends Rs 810 to claim Rs 127.46 gas subsidy
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0033354625
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech