अगले 72 घंटे के लिए पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में बस सेवाएं पूरी तरह ठप करने के निर्देशरिजर्व बैंक कल करेगा 200 रुपये के नोट जारीक्यों न हरियाणा के DGP को बर्खास्त किया जाए: हाईकोर्टअश्विनी लोहानी ने रेलवे बोर्ड के नए चेयरमैन का पदभार संभाला पंजाब और हरियाणा में इंटरनेट सेवा पर रोक लगी हरियाणा सरकार ने पुलिस मुख्यालय, सेक्टर-6, पंचकुला में राज्य स्तरीय दंगा नियंत्रण केंद्र की स्थापना की:विनोद कुमार पुलिस अधीक्षक जम्मू-कश्मीर: त्राल में स्कूल बस दुर्घटनाग्रस्त, कई छात्र घायल पंजाब रोडवेज ने हरियाणा जाने वाली अपनी सभी बसों के रूट रद्द किए हरियाणा: हिसार कोर्ट में आज सुनाया जाएगा संत रामपाल पर फैसला हरियाणा-पंजाब में हाई अलर्ट, BSF और CRPF तैनात
राष्ट्रीय

नोटबंदी -सर्जिकल स्ट्राईक आन ब्लैक मनी

December 12, 2016 07:58 PM

नोटबंदी (विमुद्रीकरण) की चर्चा चहुं ओर है। छोटे से लेकर बड़े तक, राजनेता, अभिनेता, समाज का हर वर्ग चाहे अमीर या गरीब सब इस मुद्दे पर अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं। व्यथित और आहत तो बैंकों की कतार में लगे हैं, पूरा भारत इस निर्णय (सर्जिकल स्ट्राईक आन ब्लैक मनी) से ऐसे हिचकोले खा रहा है, मानो कोई सुनामी आई हो। तरलता का अभाव (कैश) ने सामान्य जनजीवन को रोक सा दिया है। काला धन कितना बाहर आएगा, यह तो समय ही बताएगा, पर भारत का आम व्यक्ति, जो पहले भी काले धन के अंदर होने से दु:खी हो रहा था, अब इस प्रयास की बहुत भारी कीमत चुका रहा है। रोजगार बेरोजगार हो रहा है, उसका पैसा पानी हो गया है। अर्थव्यवस्था उनके लिए, जो हाशिये पर थे, थम सी गई है। डिजिटल इंडिया मोदी का सपना हो सकता है या आईटी कम्पनियों का, पर जमीनी हकीकत यह है कि वित्तीय साक्षरता के अभाव में कैशलैस अर्थव्यवस्था ‘मुंगेरी लाल का हसीन सपना’  प्रतीत होता है। समावेशी अर्थव्यवस्था या ‘सबका साथ-सबका विकास’  आज मात्र खोखला नारा प्रतीत हो रहा है। जिनके पास काला धन था, उन रसूखदारों को तो और भी अच्छा मौका मिल गया है, वह अपने काले धन को बैकों से मिली भगत कर सफेद कर चुके हैं, उसके बदले ईमानदार तथा सामान्य व्यक्ति इतनी असुविधा, परेशानी तथा मानसिक व्यथा से गुजर रहा है। इस तुगलकी फैसले से राजनैतिक फायदा शायद मोदी को उत्तर प्रदेश के चुनावों में मिल भी जाए, पर सामाजिक तथा आर्थिक पैमानों पर यह फैसला दूरगामी परिणाम देगा। कहा जा रहा है कि हिम्मत रखिये थोड़ी परेशानी और असुविधा के बाद अच्छे दिन आएंगे पर पूछो उससे, जिनके घर में इस नोट बंदी की वजह से मौत हो गई हैं, पूछो उससे जिसकी नौकरी चली गई है, पूछो उससे जिसकी दुकान में स्टॉक पड़ा खराब हो रहा है बाजार में खरीददार नहीं है। सैंसक्स बढ़े या घटे, जिसके लिए दो जून रोटी का जुगाड़ मुश्किल है, उसे क्या फर्क पड़ता है, काला धन अंदर रहे या बाहर। अखबार वाले, टी.वी. वाले सब अपने गले फाड़ कर इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। संसद में भी गतिरोध जारी है, पर सवाल अब स्थितियों को संभालने का है, 33 दिन हो गए हैं, 19 दिन बाकी हैं, इस पीड़ा को सहन करने के। ऐसा कहना है, शीर्षस्थ नेताओं का। पर अगर गौर किया जाए हालातों पर तो लगता नहीं है कि छ: महीने से पहले अर्थव्यवस्था की रेल पटरी पर आए। धमकियों और डर उत्पन्न करके कि काला धन जो बैंकों में जमा करवाया है, उसकी पाई-पाई का हिसाब लिया जाएगा, तब भी  शामत आम व्यक्ति की ही आएगी। कानून के हाथ जितने लम्बे हो, लोगों की पहुंच से बाहर होते हैं। बताया जा रहा है। ऐसे अभूतपूर्व निर्णय लेने के लिए नैतिक साहस की जरूरत होती है, पर वह भी किस काम का, जिससे उन लोगों को ही कष्ट पहुंचे, जिनकी खातिर यह निर्णय लिया गया है। काला धन क्यों पैदा होता है, कहां उत्पन्न हो रहा है, क्या सारा काला धन बेईमानी तथा भ्रष्ट तरीकों से उत्पन्न हुआ है? आगे कैसे रोका जाना है? इन सब प्रश्नों का उत्तर दिया जाना चाहिए था। इतना महत्वपूर्ण तथा दूरगामी परिणाम वाला निर्णय- 86 प्रतिशत करैंसी को रद्द किया जाना केवल राजनेताओं द्वारा लिया जाना बिना अर्थशास्त्रियों तथा विशेषज्ञों की सलाह से अपने आप में बहुत कुछ कहता है। आव देखा न ताव पूरी अर्थव्यवस्था को बंधक बना डाला, इस निर्णय ने। अंत: में ये पक्तियां ‘धुंधली हुई दिशायें, छाने लगा कुंहासा, कुचली हुई शिखा से आने लगा धुंआ सा, कोई मुझे बता दे, ये क्या आज हो रहा है, क्यूं हाहाकार मचा है, ये क्या आज हो रहा है’ ।  डॉ. क. कली

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
तिरुअनंतपुरम: केरला छात्र संगठन स्वास्थ्य मंत्री शैलजा के इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। उनके खिलाफ परिवारवाद के आरोप हैं। रिजर्व बैंक कल करेगा 200 रुपये के नोट जारी 200 का नया नोट:कलर-शिफ्ट के साथ सुरक्षा धागा भी होगा जिसपर 'भारत' और 'RBI' लिखा होगा। छोटे अक्षरों में 'RBI', 'India', '200' और 'भारत' लिखा होगा। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सरकार को धक्का लगा है: पी. चिदंबरम अश्विनी लोहानी ने रेलवे बोर्ड के नए चेयरमैन का पदभार संभाला मध्य प्रदेश: शिवपुरी में ऑक्सीजन गैस से भरा ट्रक पलटा, 7 लोग घायल ममता बनर्जी को बंगाल के विकास की चिंता नहीं, अपनी कुर्सी की चिंता है: कैलाश विजयवर्गीय कुर्सी बचाने के लिए ममता तुष्टिकरण की राजनीति कर रही हैं: कैलाश विजयवर्गीय नोट के एक हिस्से में भारत की सांस्कृतिक धरोहर को दिखाता हुआ सांची स्तूप होगा
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0034812996
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech