Monday, July 23, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के आह्वान पर चक्काजाम का अंबाला ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के सभी दल मेंबर में एकत्र होकर आज बंद का समर्थन कियाराजद सांसद जेपी यादव बोले- 2019 का चुनाव राहुल गांधी बनाम नरेंद्र मोदी होगा गोरखपुर: पटरी से उतरी मालगाड़ी, चौरी चौरा रेलवे स्‍टेशन के करीब हुआ हादसा गौरी लंकेश मर्डर केस के 2 आरोपी बेंगलुरु लाए गए, कल हुई थी गिरफ्तारी अलवर लिंचिंग केस में घटनास्‍थल पर पहुंची राजस्‍थान पुलिस 31 जुलाई तक बारिश नहीं होने की स्थिति में सूखा राज्‍य घोषित होगा बिहार सरकार द्वारा चालू वित्त वर्ष अर्थात 2018-19 के प्रोपर्टी टैक्स पर 10 प्रतिशत की छूट दी जा रही है:यशपाल यादवजल्द ही गुरुग्राम के सैक्टर-9ए व आस पास के क्षेत्रों के लोगों की सुविधा के लिए 50 एमएलडी क्षमता के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट(एसटीपी) को शुरू किया जाएगा:राव नरबीर सिंह
Dharam Karam

पितृ पक्ष श्राद्ध 2016

September 15, 2016 07:30 AM

पितृ पक्ष श्राद्ध 2016

हिन्दू धर्म में मृत्यु के बाद श्राद्ध करना बेहद जरूरी माना जाता है। मान्यतानुसार अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती और वह भूत के रूप में इस संसार में ही रह जाता है।

पितृ पक्ष का महत्त्व -
ब्रह्म वैवर्त पुराण के अनुसार देवताओं को प्रसन्न करने से पहले मनुष्य को अपने पितरों यानि पूर्वजों को प्रसन्न करना चाहिए। हिन्दू ज्योतिष के अनुसार भी पितृ दोष को सबसे जटिल कुंडली दोषों में से एक माना जाता है। पितरों की शांति के लिए हर वर्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक के काल को पितृ पक्ष श्राद्ध होते हैं। मान्यता है कि इस दौरान कुछ समय के लिए यमराज पितरों को आजाद कर देते हैं ताकि वह अपने परिजनों से श्राद्ध ग्रहण कर सकें।

पितृ पक्ष श्राद्ध 2016 -
वर्ष 2016 में पितृ पक्ष श्राद्ध की तिथियां निम्न हैं:

तारीख दिन श्राद्ध तिथियाँ
16 सितंबर शुक्रवार पूर्णिमा श्राद्ध
17 सितंबर शनिवार प्रतिपदा
18 सितंबर रविवार द्वितीया तिथि

19 सितंबर सोमवार तृतीया - चतुर्थी (एक साथ)
20 सितंबर मंगलवार पंचमी तिथि
21 सितंबर बुधवार षष्ठी तिथि
22 सितंबर गुरुवार सप्तमी तिथि
23 सितंबर शुक्रवार अष्टमी तिथि
24 सितंबर शनिवार नवमी तिथि
25 सितंबर रविवार दशमी तिथि
26 सितंबर सोमवार एकादशी तिथि
27 सितंबर मंगलवार द्वादशी तिथि
28 सितंबर बुधवार त्रयोदशी तिथि

29 सितंबर गुरुवार अमावस्या
व सर्वपितृ श्राद्ध

श्राद्ध क्या है?

ब्रह्म पुराण के अनुसार जो भी वस्तु उचित काल या स्थान पर पितरों के नाम उचित विधि द्वारा ब्राह्मणों को श्रद्धापूर्वक दिया जाए वह श्राद्ध कहलाता है। श्राद्ध के माध्यम से पितरों को तृप्ति के लिए भोजन पहुंचाया जाता है। पिण्ड रूप में पितरों को दिया गया भोजन श्राद्ध का अहम हिस्सा होता है।

क्यों जरूरी है श्राद्ध देना?

मान्यता है कि अगर पितर रुष्ट हो जाए तो मनुष्य को जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पितरों की अशांति के कारण धन हानि और संतान पक्ष से समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। संतान-हीनता के मामलों में ज्योतिषी पितृ दोष को अवश्य देखते हैं। ऐसे लोगों को पितृ पक्ष के दौरान श्राद्ध अवश्य करना चाहिए।

क्या दिया जाता है श्राद्ध में?

श्राद्ध में तिल, चावल, जौ आदि को अधिक महत्त्व दिया जाता है। साथ ही पुराणों में इस बात का भी जिक्र है कि श्राद्ध का अधिकार केवल योग्य ब्राह्मणों को है। श्राद्ध में तिल और कुशा का सर्वाधिक महत्त्व होता है। श्राद्ध में पितरों को अर्पित किए जाने वाले भोज्य पदार्थ को पिंडी रूप में अर्पित करना चाहिए। श्राद्ध का अधिकार पुत्र, भाई, पौत्र, प्रपौत्र समेत महिलाओं को भी होता है।

श्राद्ध में कौओं का महत्त्व

कौए को पितरों का रूप माना जाता है। मान्यता है कि श्राद्ध ग्रहण करने के लिए हमारे पितर कौए का रूप धारण कर नियत तिथि पर दोपहर के समय हमारे घर आते हैं। अगर उन्हें श्राद्ध नहीं मिलता तो वह रुष्ट हो जाते हैं। इस कारण श्राद्ध का प्रथम अंश कौओं को दिया जाता है।

किस तारीख में करना चाहिए श्राद्ध?

सरल शब्दों में समझा जाए तो श्राद्ध दिवंगत परिजनों को उनकी मृत्यु की तिथि पर श्रद्धापूर्वक याद किया जाना है। अगर किसी परिजन की मृत्यु प्रतिपदा को हुई हो तो उनका श्राद्ध प्रतिपदा के दिन ही किया जाता है। इसी प्रकार अन्य दिनों में भी ऐसा ही किया जाता है। इस विषय में कुछ विशेष मान्यता भी है जो निम्न हैं:
* पिता का श्राद्ध अष्टमी के दिन और माता का नवमी के दिन किया जाता है।
* जिन परिजनों की अकाल मृत्यु हुई जो यानि किसी दुर्घटना या आत्महत्या के कारण हुई हो उनका श्राद्ध चतुर्दशी के दिन किया जाता है।
* साधु और संन्यासियों का श्राद्ध द्वाद्वशी के दिन किया जाता है।
* जिन पितरों के मरने की तिथि याद नहीं है,
उनका श्राद्ध अमावस्या के दिन किया जाता है। इस दिन को सर्व पितृ श्राद्ध कहा जाता है।..

डॉ सतवीर चौधरी

Have something to say? Post your comment
 
More Dharam Karam News
WHO IS A HINDU? Vedanta and LGBTIQ अहमदाबाद: शुरू हुई भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा, रुपाणी-शाह शामिल
साल का दूसरा सूर्य ग्रहण 13 जुलाई को, भारत में कम रहेगा प्रभाव
जम्मू-कश्मीर: पहलगाम और बालटाल रूट से फिर शुरू हुई अमरनाथ यात्रा बुरहान वानी की दुसरी बरसी पर रविवार को अमरनाथ यात्रा रहेगी स्थगित जम्मू- कश्मीर: पहलगाम से फिर शुरू हुई अमरनाथ यात्रा हरियाणा से हज यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए 10 जुलाई, 2018 से टीकाकरण शिविरों का आयोजन किया जाएगा कैलाश मानसरोवरः 21 विमानों की मदद से फंसे 324 तीर्थयात्री निकाले गए खराब मौसम के चलते पहलगाम में फिर रुकी अमरनाथ यात्रा अमरनाथ यात्रा के लिए हेलिकॉप्‍टर सर्विस शुरू, बारिश के कारण आई थी रुकावट